Breaking News
prev next

संगठित अपराध के खिलाफ विधानसभा से पास हुआ यूपीकोका बिल

Lucknow: Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath addresses a press conference in Lucknow on Aug 12, 2017. (Photo: IANS)

उत्तर प्रदेश: विधानसभा ने संगठित अपराध पर अंकुश लगाने के कड़े प्रावधान वाला ‘यूपीकोका विधेयक’ मंगलवार को पारितकर दिया गया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से पेश किए गए इस विधेयक को सदन ने ध्वनिमत से पारित किया। पूर्व में भी विधानसभा ने यह विधेयक पारित किया था, लेकिन विधान परिषद में यह पारित नहीं हो सका था। योगी ने आज इस विधेयक को पुन: पेश किया। हालांकि, यूपीकोका को काला कानून बताते हुए विपक्ष ने सदन से वाक आउट किया।

योगी ने उत्तर प्रदेश संगठित अपराध नियंत्रण विधेयक (यूपीकोका) 2017 पेश करते हुए कहा, ”संगठित अपराध एक जिले या एक राज्य का नहीं बल्कि राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय विषय बन गया है। :अपराध नियंत्रण के लिए: जो प्रयास हमारी सरकार ने किये, उसके बहुत अच्छे परिणाम सामने आये हैं। उन सबके बावजूद महसूस किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में अपराध पर पूर्ण नियंत्रण के लिए कठोर कानून की आवश्यकता है।”

अपराध की प्रकृति और दायरा बढ़ने के साथ साथ प्रदेश में संगठित अपराध पर प्रभावी नियंत्रण के लिए एक कानून की आवश्यकता बहुत दिन से महसूस की जा रही है। सरकार प्रदेश की जनता की सुरक्षा के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य करे, उसी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए हम ये विधेयक लाये हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश बड़ा राज्य है। विभिन्न प्रदेशों से हमारी सीमाएं मिलती हैं। नेपाल से हमारी सीमाएं मिलती हैं। ये सभी सीमाएं खुली हैं आज ऐसे कानून की आवश्यकता है जो संगठित अपराध में लिप्त तत्वों पर कठोरता करे और आम जनमानस को बिना भेदभाव के सुरक्षा की गारंटी दे सके। उन्होंने कहा कि इस दृष्टि से प्रदेश में पिछले एक वर्ष में एक माहौल देने का कार्य हुआ है। जो प्रयास हमारी सरकार ने किये, उसके बहुत अच्छे परिणाम सामने आये हैं। योगी ने कहा कि यूपीकोका का दुरूपयोग कोई नहीं कर सकता।

नेता प्रतिपक्ष राम गोविन्द चौधरी ने कहा कि हर सरकार चाहती है कि उसके राज में कानून व्यवस्था ठीक हो। जनता भी यही चाहती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के भाषण से प्रतीत हुआ कि अपराध घटे हैं। जब कानून व्यवस्था बेहतर हो गयी है तब इस कानून को लाने की जरूरत क्या है। यह लोकतंत्र एवं संविधान विरोधी कानून है। चौधरी ने कहा कि भाजपा सरकार के समय अपराध बढे़ हैं। यूपीकोका पुलिस की जेब भरने वाला कानून है। बसपा नेता लालजी वर्मा और कांग्रेस के अजय कुमार लल्लू ने भी विधेयक का विरोध किया।

 

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]
  • अब एलआईसी की बारी
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। काफी समय से भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने की जो कवायद चल रही थी वो अब अंतिम चरण में आ चुकी है। यह तय हो गया है कि कुल 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। एलआईसी को बेचने के […]
  • भारतीय रेलवे जल्द ही करेगा भर्तियां
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। लाेेेकडाउन केे बाद आनलाक की प्र‍क्रिया के तहत सरकार एक एक कर के सरकारी क्षेत्राेे में खाली पदों कों भरने केे लिए, परीक्षाओं का दिशा निर्देश जारी कर रही है। इन्‍ही मेंं से […]
  • मेरठ प्रांत के नेत्रदान पखवाड़े के उपलक्ष्‍य में वेबीनार…
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर, 2020, दिल्‍ली।। आज दिनांक 6 सितंबर 2020 दिन रविवार को नेत्रदान पखवाड़े के उपलक्ष में सक्षम मेरठ प्रांत ने एक ई- संगोष्ठी का आयोजन किया। जिसकी अध्यक्षता श्री राम कुमार मिश्रा राष्ट्रीय […]