Breaking News
prev next

जीएम क्‍या है

नई दिल्‍ली, पिछले कुछ समय से जेनिटिकल मोडिफाय अर्थात् जी.एम . फसलें पर विवाद चल रहा है परन्‍तु बहुत ही तर्कसंगत बात पर बहुत प्रयास के पश्‍चात् सत्‍यम लाइव की टीम ने कुछ तथ्‍य प्रस्‍तुत करने का निश्‍चिय किया और उस विवाद पर कुछ प्रकाश डालना उचित और अनुचित ये आप लोगों को निर्णय लेना होगा, सत्‍यम लाइव ने सिर्फ तथ्‍य तर्क सहित प्रस्‍तुत कर रहे हैं

जी.एम. फसले उन्‍नत बीज पर आधारित फसलें हैं, जानकारी के मुताबिक जीएम बीज कृत्रिम बीज है, विश्‍‍‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के मुताबिक जीएम ऑर्गेनिज्‍म में डीएनए को बदला जा सकता है, इनको तीन नामों से जाना जाता है 1. जीन टेक्‍नोलॉजी 2. रिकॉम्‍बिनेंट डीएनए टेक्‍नोलॉजी 3. जैनेटिक इंजीनियिरंग

बनता कैसे है जी.एम. सरल भाषा में समझे तो वनस्‍पति के जीन को निकालकर दूसरी वनस्‍पति में डाला जाता है, इसके तहत हाइब्रिड बनाने के लिए किसी वनस्‍पति में नपुंसकता  पैदा हो जाती है, जैसे जीएम सरसों के पौधों के सरसों के फूल में होने वाले स्‍व परागण को रोकने के लिए नपुंसकता पैदा की जाती है फिर हवा, तितलियों, मधुमक्‍खियों और कीडों के माध्‍यम से परागण करा कर हाइब्रिड तैयार किया जाता है

उदेदश्‍य क्‍या है वैज्ञानिक का दावा है कि जीएम फसलों से उत्‍पदकता बढेगी, प्रतिरोधक क्षमता भी बढेगी तथा इस तकनीकि के माध्‍यम से सूखा पडने जैसी आपदाओ से भी निजात मिलेगी, जीएम सरसों में मामले में कीटनाशक को सहने वाली फसल उगाने का दावा किया जा रहा है अब तक कुल 28 देशों मे जीएम फसल उगाई जा रही है उसमें से 2 देशों में ब्राजील में 25 प्रतिशत और अमेरिका में लगभग 40  प्रतिशत फसल उगाई जा रही है भारत, चीन, कनाडा और अर्जेटीना में 27 प्रतिशत फसल उगाई जा रही है शेष 11 प्रतिशत फसल 22 देशो में उगाई जा रही है अर्थात् यूरोप में 65 प्रतिशत फसल जीएम से माध्‍यम से उगाई जा रही है कुछ रोचक तथ्‍य में जानने का अवश्‍स मिलता है कि जर्मनी और स्‍विटजरलैण्‍ड की सरकारों ने अपने देश में जीएम पर प्रतिबन्‍ध लगा रखा है लेकिन कुछ  देशों की कम्‍पनियों ने पूरे विश्‍व में जीएम फसल के लिए बाजार तलाश रही है, जीएम फसलों के खिलाफ मुहिम चलाने वाली कविता कुरूगंटी जी का कहना है कि जीएम के माध्‍यम से जितनी आसानी से कम्‍पनियों को पेटेंट मिलता है वह शायद दूसरी तकनीकी से नहीं मिल पा रहा है, और जीएम तकनीक के तहत सिर्फ दो या तीन जीन बाहर से डालकर आप उसे पूरी प्रजाति पर पेटेंट का दावा कर सकते हैं, अर्थात् बडी कम्‍पनियों का एकाध्‍िाकार का खतरा है

अब तक हुआ क्‍या है और पर्यावरण को कितना फायदा है, और सम्‍भावना क्‍या होगी तथा किसानों को क्‍या फायदा है इस पर चर्चा अगले लेख में करेगें

सत्यम् लाइव

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]
  • अब एलआईसी की बारी
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। काफी समय से भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने की जो कवायद चल रही थी वो अब अंतिम चरण में आ चुकी है। यह तय हो गया है कि कुल 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। एलआईसी को बेचने के […]