Trending News
prev next

भारतीय पुनर्वास परिषद के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का किया गया समापन |

सत्यम लाइव, काशीपुर: आज दिनांक 7:10 2019 को उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में भारतीय पुनर्वास परिषद नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का समापन किया गया जिसमें विशेष शिक्षा से जुड़े हुए बहुत से विशेष शिक्षकों ने हिस्सा लिया ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया यह कार्यक्रम विवेकानंद इंटर कॉलेज काशीपुर उधम सिंह नगर में संपन्न हुआ इसमें मुख्य आकर्षण का बिंदु यह रहा कि राधे हरि कृष्ण डिग्री कॉलेज के B.Ed B.Ed कॉलेज के स्टूडेंट तो ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया B.Ed कॉलेज के करीब 50 छात्रों ने प्रतिदिन कार्यक्रम में हिस्सा लिया और उन्होंने दिव्यांग बच्चों की बारे में जो जानकारी दी गई उसको अच्छे से सुना जिसमें सांकेतिक भाषा पर ब्रेल लिपि से संबंधित विशेष रूप से जो प्रशिक्षण दिया गया उसमें रुचि लेकर बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया |

दिव्यांग जनों को किस तरह से प्रशिक्षित किया जाता है और दिव्यांग जनों के परिवार वालों को क्या-क्या समस्याएं आती है उन सभी के बारे में उन्होंने आपस में विचार विमर्श किया और जो उनको आने वाले समय में एक समस्या उत्पन्न होती उसके बारे में पूर्ण जानकारी ली इस जानकारी को विशेष रूप से अलग-अलग क्षेत्र के विशेषज्ञों ने इसके बारे में कार्यशाला के मुख्य अतिथि डा0ममरली सिहं वरिष्ठ स्पीच थैरेपिसट जैनेसिस न्यूरोजन दिल्ली ने स्पीच थैरेपी व विकलांग बच्चो को क्या क्या लाभ मिलता है उसकी जानकारी दी और विशेष शिक्षक को यिशेष बच्चो को किस तर से लाभकारी किया जा सकता है हमे ऐसे बच्चो को नियमित काम करे तो वह किसी से कम नही है पूर्ण जानकारी दी कार्यक्रम के संयोजक व उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी के यूनिवर्सिटी हल्द्वानी के विशेष शिक्षा कार्यक्रम संयोजक डॉ सिद्धार्थ पोखरियाल ने बीएड छात्रों के को दिव्यांग बच्चों के विषय में बताया कि अगर आप दिव्यांग बच्चों के साथ कार्य करेंगे तो आपको बहुत अच्छा लगेगा और दिव्यांग बच्चों की भलाई होगी इस देश में जो रूढ़िवादी मानसिकता चल रही है उसका भी हमें बहुत लाभ मिलेगा मानसिक विकलांग है रिंग इन पर बच्चे और विजुअली इंपेयर्ड बच्चों को किस तरह से प्रशिक्षित किया जाता है उस सब के बारे में जानकारी दी और कहा कि अगर आप सामान्य बच्चों के साथ काम करेंगे तो उसमें कुछ बच्चे इस प्रकार के आ सकते हैं जिनको दिव्यांग की प्रॉब्लम है उनको हम किस तरह से प्रशिक्षित करें और उनको क्या-क्या करना है क्योंकि आने वाले समय में वही छात्र वही अध्यापक सामान्य बच्चों को पढ़ाएंगे और सामान्य बच्चों के साथ-साथ कुछ ऐसे दिव्यांग बच्चे भी होंगे जिसकी जानकारी होना उनको अत्यंत आवश्यक है

अनमोल फाउंडेशन के महासचिव सतीश चौहान नेम विजुअली इंपेयर्ड बच्चे बेरिंग इनफील्ड बच्चों के बारे में बताया कि क्या क्या उत्तराखंड सरकार इस तरह के बच्चों को सुविधाएं दे रही है और इस तरह के बच्चों का सर्टिफिकेट किस तरह से यीशु किया जाता है वह किस तरह की फाइनेंस सपोर्ट उत्तराखंड गवर्नमेंट दे रही है इन सभी से उन्होंने अवगत कराया इसी के साथ साथ अनमोल फाउंडेशन पर बीआरसी की प्रधानाचार्य मीनाक्षी चौहान ने ब्रेल लिपि के विषय में जानकारी दीजिए हमें किस तरह से बच्चों को जानकारी बच्चों को पढ़ाने में बड़ी परेशानी होती है माध्यम से हम बहुत आसानी से छात्रों को पढ़ा सकते हैं जिसका विशेष शिक्षकों ने भरपूर लाभ उठाया डॉ राकेश कुमार शर्मा सहायक प्रोफेसर राधे हरी डिग्री कॉलेज काशीपुर ने जो B.Ed छात्र-छात्राएं आई उनको प्रेरित किया कि हमें इस से किस प्रकार का लाभ मिल सकता है और दिव्यांग जनों के लिए आप कितने लाभकारी होंगे उन्होंने बीएड छात्रों को प्रेरित कर समस्त छात्रों को आने के लिए जागरूक किया सक्षम संगठन के समस्त पदाधिकारियों ने इसमें हिस्सा लिया जिसमें उत्तराखंड अनुसंधान प्रमुख डॉक्टर सिद्धार्थ पोखरियाल व सतीश कुमार चौहान द्विवयांग जन सहलाकर प्रमुख कुमायु मण्डल सहारनपुर मण्डल संयोजक डा0 मुरली सिंह व तरुण नंगी उपस्थिति थी।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • मुकुंदपुर में हार्डवेयर कारोबारी पर हमले में तीन गिरफ्तारिया …
    सत्‍यम् लाइव, दिल्ली || मुकंदपुर इलाके में सोमवार देर रात हार्डवेयर कारोबारी फतेह सिंह उर्फ सोनू सिसोदिया पर जानलेवा हमले में तीन हमलावरों को गिरफ्तार किया गया है उनकी पहचान मुकेश बोना, राहुल लक्कड़ व विक्की के रूप […]
  • भारतीय पुनर्वास परिषद के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का …
    सत्यम लाइव, काशीपुर: आज दिनांक 7:10 2019 को उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में भारतीय पुनर्वास परिषद नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का समापन किया गया जिसमें विशेष शिक्षा से […]
  • नवदुर्गा या नव आयुर्वेद
    आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन का ज्ञान’ और यही संक्षेप में आयुर्वेद का सार है।हिताहितं सुखं […]
  • घरेलू भोज्‍य, दो मिनट में तैयार
    सत्‍यम् लाइव, कानपुर: भारतीय संस्‍कृृ‍ति की ”अतिथि देवोभव” जैसी परम्‍परा अब समाप्‍त सी होती जा रही है। ये कहने की आवश्‍यकता नहीं है कि पूूूरेे विश्‍व में भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जो जहाॅॅ की नारी को […]
  • पहली बार सुभाष चन्‍द्रबोस ने कहा था राष्‍ट्रपिता
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: मोहनदास करमचन्द गांधी  (2 अक्‍टूबर 1889- 30 जनवरी 1948) भारतीय स्‍वातंत्ररता आन्‍दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्‍याग्रह (सविनय अवज्ञा) के प्रतिकार के अग्रणी […]
  • न भूतो न भविष्‍यति ….. सुनील शुक्‍ल
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: 2 अक्‍टूूूूबर को भारत में दो महान पुरूष ने जन्‍म लिया है एक थे महात्‍मा गॉधी (2 अक्‍टूबर 1869 – 30 जनवरी 1949) तथा दूूूसरे न भूतो न भविष्‍यति भारत के द्वितीय प्रधानमंंत्री लालबहादुर […]
  • स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक राजीव दीक्षित
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक इलेक्‍ट्र्राा‍निक्‍स एण्‍ड कम्‍युनिकेेेेेशन से आईआईटी करने के बाद भारत के कई पुुराने विषयों पर शोध कार्य करने वाले को आज महर्षि राजीव दीक्षित के नाम से जाना जाता […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


1 + 4 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.