Trending News
prev next

माता को सिन्‍दुर क्‍यों चढाते हैं?

भारतीय वैदिक परंपरा में शादी के बाद महिलाओं को मांग में सिंदूर भरना आवश्यक हो जाता है। आधुनिक दौर में अब सिंदूर की जगह कुंकु और अन्य चीजों ने ले ली है। सवाल यह उठता है कि आखिर सिंदूर ही क्यों लगाया जाता है। दरअसल इसके पीछे एक बड़ा वैज्ञानिक कारण है। यह मामला पूरी तरह स्वास्थ्य से जुड़ा है। सिर के उस स्थान पर जहां मांग भरी जाने की परंपरा है, मस्तिष्क की एक महत्वपूर्ण ग्रंथी होती है, जिसे ब्रह्मरंध्र कहते हैं। जो अत्यंत संवेदनशील होती है।
यह मांग के स्थान यानी कपाल के अंत से लेकर सिर के मध्य तक होती है। सिंदूर इसलिए लगाया जाता है क्योंकि इसमें पारा धातु मिली होती है। पारा ब्रह्मरंध्र के लिए औषधि का काम करता है। महिलाओं को तनाव से दूर रखता है और मस्तिष्क हमेशा चैतन्य अवस्था में रखता है। विवाह के बाद ही मांग इसलिए भरी जाती है क्योंकि विवाह के बाद जब गृहस्थी का दबाव महिला पर आता है (गर्भ) तो उसे तनाव, चिंता और अनिद्रा जैसी बीमारिया आमतौर पर घेर लेती हैं। पारा एकमात्र ऐसी धातु है जो तरल रूप में रहती है। यह मष्तिष्क के लिए लाभकारी है, इस कारण सिंदूर मांग में भरा जाता है। मांग में सिंन्दूर भरना औरतों के लिए सुहागिन होने की निशानी माना जाता है। विवाह के समय वर द्वारा वधू की मांग मे सिंदूर भरने के संस्कार को सुमंगली क्रिया कहते हैं।
इसके बाद विवाहिता पति के जीवित रहने तक आजीवन अपनी मांग में सिन्दूर भरती है। हिंदू धर्म के अनुसार मांग में सिंदूर भरना सुहागिन होने का प्रतीक है। सिंदूर नारी श्रंगार का भी एक महत्तवपूर्ण अंग है। सिंदूर मंगल-सूचक भी होता है। शरीर विज्ञान में भी सिंदूर का महत्त्व बताया गया है। सिंदूर में पारा जैसी धातु अधिक होने के कारण चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पडती।
सिंदूर मर्म स्थान को बाहरी बुरे प्रभावों से भी बचाता है। सामुद्रिक शास्त्र में अभागिनी स्त्री के दोष निवारण के लिए मांग में सिंदूर भरने की सलाह दी गई है।
—— सुुुुुनील शुक्‍‍‍ल उपसम्‍पादक

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • मुकुंदपुर में हार्डवेयर कारोबारी पर हमले में तीन गिरफ्तारिया …
    सत्‍यम् लाइव, दिल्ली || मुकंदपुर इलाके में सोमवार देर रात हार्डवेयर कारोबारी फतेह सिंह उर्फ सोनू सिसोदिया पर जानलेवा हमले में तीन हमलावरों को गिरफ्तार किया गया है उनकी पहचान मुकेश बोना, राहुल लक्कड़ व विक्की के रूप […]
  • भारतीय पुनर्वास परिषद के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का …
    सत्यम लाइव, काशीपुर: आज दिनांक 7:10 2019 को उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में भारतीय पुनर्वास परिषद नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का समापन किया गया जिसमें विशेष शिक्षा से […]
  • नवदुर्गा या नव आयुर्वेद
    आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन का ज्ञान’ और यही संक्षेप में आयुर्वेद का सार है।हिताहितं सुखं […]
  • घरेलू भोज्‍य, दो मिनट में तैयार
    सत्‍यम् लाइव, कानपुर: भारतीय संस्‍कृृ‍ति की ”अतिथि देवोभव” जैसी परम्‍परा अब समाप्‍त सी होती जा रही है। ये कहने की आवश्‍यकता नहीं है कि पूूूरेे विश्‍व में भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जो जहाॅॅ की नारी को […]
  • पहली बार सुभाष चन्‍द्रबोस ने कहा था राष्‍ट्रपिता
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: मोहनदास करमचन्द गांधी  (2 अक्‍टूबर 1889- 30 जनवरी 1948) भारतीय स्‍वातंत्ररता आन्‍दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्‍याग्रह (सविनय अवज्ञा) के प्रतिकार के अग्रणी […]
  • न भूतो न भविष्‍यति ….. सुनील शुक्‍ल
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: 2 अक्‍टूूूूबर को भारत में दो महान पुरूष ने जन्‍म लिया है एक थे महात्‍मा गॉधी (2 अक्‍टूबर 1869 – 30 जनवरी 1949) तथा दूूूसरे न भूतो न भविष्‍यति भारत के द्वितीय प्रधानमंंत्री लालबहादुर […]
  • स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक राजीव दीक्षित
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक इलेक्‍ट्र्राा‍निक्‍स एण्‍ड कम्‍युनिकेेेेेशन से आईआईटी करने के बाद भारत के कई पुुराने विषयों पर शोध कार्य करने वाले को आज महर्षि राजीव दीक्षित के नाम से जाना जाता […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


four − 1 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.