Trending News
prev next

महंत नरेंद्र गिरी का मिला सुसाइड नोट, गम्भीर आरोप

सत्यम् लाइव, 21 सितम्बर 2021, दिल्ली।। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरी की मौत एक अनसुलझा रहस्य बनी हुई है अचानक उनका निधन, प्रयागराज बाघंबरी मठ में उनकी लाश, उनके कमरे ही में रस्सी के फंदे पर लटकती मिलना। तथा पुलिस को आठ पन्नों का सुसाइड नोट मिलना। वो भी महंत नरेंद्र गिरि के लेटर पैड पर। उसमें कुछ व्यक्तियों का नाम होना साथ ही पहले 13 सितम्बर को लिखा वो नोट फिर काट कर उसमें तारीख का बदला जाना। एक रहस्य अभी भी बना हुआ है। अब तक पुलिस ने उनके शिष्य योगगुरु आनंद गिरि, हनुमान मंदिर के पुजारी तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को हिरासत में ले लिया है। सुसाइड नोट में उनका नाम भी है।

महेंद्र गिरि जी द्वारा सुसाइड नोट में लिखा गया है कि मेरा मन बहुत विचलित है आनंद गिरि मुझे बदनाम करने की कोशिश कर रहा है। आज जब मुझे सूचना मिली है कि हरिद्वार से कम्प्यूटर के जरिए आनंद गिरि लड़की की तस्वीर लगाकर मेरा कोई वीडियो वायरल करने जा रहा है तौ मैं सोच रहा हूं कि मैं कहां जाऊंगा? यदि ऐसा हो गया तो किस-किस को सच बताऊंगा? इसलिए ये कदम उठाने जा रहा हूं। मैं जिस पद पर हूं यदि मेरा वीडियो वायरल हो गया तो मैं जिस समाज से जी रहा हूं। कैसे लोगों के सामने आऊंगा? इससे अच्छा मेरा मर जाना ही है इससे दुखी होकर मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं। मेरी मौत का जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी होगें। इन लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। साथ ही उन्होंनें इच्छा जाहिर की है कि नींबू के पेड़ के पास उनकी समाधि बनाई जाये और उनके कमरे की चाभी धनन्जय विद्यार्थी मेरे कमरे की चाभी बलवीर गिरि महाराज को देना।

Advertisements

सुनील शुक्ल

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.