Breaking News
prev next

क्रांन्तिवीराेें के वशंज, मजबूर है दो वक्‍त की रोटी के लिए- राजीव दीक्षित

सत्‍यम् लाइव, 15 अगस्‍त 2020, नई दिल्‍ली।। आज पूरा देेेेश 74वेें स्‍वतंत्रता दिवस का जश्‍न मना रहा है, ताेे वहीं इस आजादी की लडाई मेें अपनी जान की कुर्बानी देने वाले क्रांन्तिवीराेें के वशंज दो वक्‍त की राोटी के लिए हर दिन जददाजहद कर रहें है । अपने देश के लिए अपने प्राणों को न्योछावर कर देने वाले शहीद के कुछ वशंज जहां दैनिक मजदूरी कर अपना पेट भर रहे हैं, तो कुछ सड़कों पर भीख मांगने को मजबूर हैं। 1857 के विद्रोह के नायकों में से एक तात्या टोपे के वंशज के बारे में, स्‍वर्गीय राजीव दीक्षित बताते हैैंं की एक दिन वह कानपुुुर रेलवे स्‍टेेेेेशन से बाहर शहर की तरफ जानें के लिए बाहर की तरफ आ रहे थे । वह उस समय भारत स्‍वाभिमान के कार्य से कानपुर गयेे तो बताते हैं की जैसे मैंं जीेने उतर कर प्‍लेट फार्म नम्‍बर 8 से बाहर निकला तो वहॉ पर एक चाय की छोटी सी दुकान थी जिसमेें एक बच्‍ची और एक बच्‍चा, अपनी मां से बात कर रहे थे। वह बच्‍ची अपनी मां से कहती कि मां हम गरीब क्‍याेें है? जैसे ही यह शब्‍द मेरे कान में पडे, मैंं रूक गया अपने मन में सोचा यह साधारण परिवार नहीं है, जरूर कुछ बात है। श्री राजीव दीक्षित जी उस दुकान पर गये और पूूूूछा आप लोग कौन हो? ताेे उन्‍होंने जवाब दिया हम तात्‍या टोपे के वशंज है। राजीव जी कहते हैं मैं स्‍तब्‍ध रह गया। कि यह हाल है हमारे क्रांंतिवीरों के वशंजाेे का। हर दिन दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करने को मजबूर हैं। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के 73 से अधिक नायकों के वंशजों पर कई किताब लिख चुके पूर्व पत्रकार शिवनाथ झा का कहना है कि मैंने तात्या के पड़ पोते विनायक राव टोपे को बिठूर में एक छोटी सी किराने की दुकान चलाते हुए देखा है। जलियांवाला बाग नरसंहर का बदला लेने के लिए उधम सिंह 1940 में लंदन गए और पंजाब के तत्कालीन उपराज्यपाल माइकल ओडायर की हत्या कर दी। इस घटना ने अंग्रेजों की नींव हिलाकर रख दी लेकिन आज उधम सिंह के भांजे के बेटे जीत सिंह पंजाब के संगरूस जिले में दिहाड़ी मजदूरी करने को मजबूर हैं। इसी तरह स्वतंत्रता की लड़ाई में फांसी के फंदे को प्यास से गले लगा लेने वाले शहीद सत्येंद्र नाथ के पड़पोते की पत्नी अनिता बोस की हालत भी बेहद खराब है। मिदनापुर में रहने वाली अनिता दो वक्त की रोटी को मोहताज हैं। बता दें कि सत्येंद्र नाथ और खुदीराम बोस अलीपुर बम कांड में शामिल थे। दोनों को 1908 में फांसी दे दी गई थी। जिस समय अंग्रेजों ने उन्हें फांसी की सजा दी उस वक्त सत्येंद्र नाथ केवल 26 वर्ष के थे और खुदीराम महज 18 साल के थे।

मंसूर आलम

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]
  • अब एलआईसी की बारी
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। काफी समय से भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने की जो कवायद चल रही थी वो अब अंतिम चरण में आ चुकी है। यह तय हो गया है कि कुल 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। एलआईसी को बेचने के […]
  • भारतीय रेलवे जल्द ही करेगा भर्तियां
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। लाेेेकडाउन केे बाद आनलाक की प्र‍क्रिया के तहत सरकार एक एक कर के सरकारी क्षेत्राेे में खाली पदों कों भरने केे लिए, परीक्षाओं का दिशा निर्देश जारी कर रही है। इन्‍ही मेंं से […]
  • मेरठ प्रांत के नेत्रदान पखवाड़े के उपलक्ष्‍य में वेबीनार…
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर, 2020, दिल्‍ली।। आज दिनांक 6 सितंबर 2020 दिन रविवार को नेत्रदान पखवाड़े के उपलक्ष में सक्षम मेरठ प्रांत ने एक ई- संगोष्ठी का आयोजन किया। जिसकी अध्यक्षता श्री राम कुमार मिश्रा राष्ट्रीय […]