Trending News
prev next

महानाट्य ‘ बापू अब भी ज़िंदा है

सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली:  गांधीजयंती 2 अक्टूबर को दिल्ली के सिरी फोर्ट सभागार में होने वाले महानाट्य बापू अब भी ज़िदा है महानाट्य के संदर्भ में आयोजित प्रैस कांफ्रेंस को केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने संबोधित करते हुए कहा कि ये नाटक बापू के विराट व्यक्तित्व से परिचय कराने के साथ-साथ वर्तमान में बापू कैसे जीवित हैं इस से परिचय कराता है।

बापू अब भी ज़िदा है नाटक में मुख्य भूमिका निभाने वाले फिल्म अभिनेता मनोज जोशी ने कहा कि गांधी जी को लेकर कई नाटक हो चुके हैं बहुत सी फिल्में भी बन चुकी है लेकिन बापू की प्रासंगिकता को प्रतिपादित करने वाला ये पहला नाटक है।

नाटक के निर्देशक कुंवर श्यामेंद्र सिंह ने बताया कि बापूअब भी ज़िदा है केवल नाटक नहीं है थ्री डी एनिमेशन से युक्त एक विशेष शो है।

नाटक के लेखक जाने माने पत्रकार प्रतिबिम्ब शर्मा ने कहा कि हम बने बनाए बापू को जानते हैं लेकिन बापू, बापू कैसे बने वो इस नाटक में ही दिखाया गया है।

कथानक

बापू ने स्वराज की लड़ाई को जनआंदोलन बना दिया और उनका ये जनआंदोलन केवल अंग्रेज़ी सरकार को हटाने भर के लिए नहीं था बल्कि व्यवस्था बदलने और पंक्ति के अंत में खड़े व्यक्ति तक विकास पहुंचाने के लिए था ।

बापू के अहिंसक आंदोलनों से हम स्वाधीन तो हो गए लेकिन पंक्ति के अंत में खड़े व्यक्ति तक विकास पहुंचाने के प्रयास कम पड़ गए।

बापू के उस स्वप्न को पूरा करने के लिए और उनके विचारों को जिंदा रखने के लिए मोदी सरकार ने गत पांच वर्षों में क्या कुछ किया है इसी को प्रतिपादित करता है हमारा महानाट्य ‘ बापू अब भी ज़िंदा है ‘ ।

बापू को स्वच्छता का ब्रांड एम्बेसेडर बनाने की बात हो या उज्जवला योजना के तहत गरीब महिलाओं को राहत देने की पहल हो मोदी सरकार ने बापू को ज़िंदा रखने की कोशिश की है।

बापू का विचार था कि भारत तो गांव में बसता है और शासन को अपनी नीतियां गांवो और गांव के किसानों को केन्द्र में रख कर ही बनानी चाहिए।

बापू के ग्राम विकास से ग्राम स्वराज, ग्राम स्वराज से राम राज्य के विचार को जीवित रखने के लिए जनधन योजना के तहत किसानों के खाते खोले गए ।

किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की गई। ऐसे ना जाने और कितने कदम उठाए गए।

बापू 40 करोड़ भारतीयों की बात करते थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी 125 करोड़ देशवासियों की बात करते हुए ना केवल देश को विकास के पथ पर ले जा रहे हैं बल्कि बापू के रामराज्य के स्वप्न को साकार करते हुए इस विचार को प्रमाणित कर रहे हैं कि बापू अब भी ज़िंदा है।

नाटक का प्रारुप

नाटक को लाइट एंड साउंड प्रारुप में मंचित किया जा रहा है । नाटक के साउंड ट्रैक में रेडियो और टीवी के ए ग्रेड कलाकारों ने अपनी आवाज़ दी है। मंच पर तकरीबन 100 से अधिक कलाकार विभिन्न और ऐतिहासिक चरित्रों को अपने अभिनय से जीवंत करते नजर आएंगे।

पदमश्री अभिनेता मनोज जोशी नाटक में सूत्रधार की महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। मनोज जोशी 123 से अधिक फिल्मों में अलग-अलग किरदार करने के साथ-साथ हिंदी, मराठी और गुजराती नाटकों में शानदार अभिनय और निर्देशन कर चुके हैं। चाणक्य उनका विश्व प्रसिद्ध नाटक है।

थियेटर की दुनिया में लंबा समय गुज़ार चुके कुंवर श्यामेंद्र सिंह इस महानाट्य का निर्देशन कर रहे हैं। कुंवर श्यामेंद्र सिंह इससे पहले नरेंद्र से विवेक तक, मीरा के प्रभु गिरधर नागर जैसे लाईट एंड साउंड प्रारुप के आधा दर्जन से अधिक नाटकों का निर्देशन कर चुके हैं।

नाटक के लेखक जाने माने पत्रकार और एंकर प्रतिबिम्ब शर्मा हैं जो तुमने बताया मै हिन्दू हूं, विवेकानंद, मीरा जैसे नाटकों का लेखन करने सहित फिर सुबह होगी, जागो-जागो, स्वच्छता ही भगवान जैसे दो दर्जन से अधिक नुक्कड़ नाटकों का लेखन और निर्देशन कर चुके हैं।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • मुकुंदपुर में हार्डवेयर कारोबारी पर हमले में तीन गिरफ्तारिया …
    सत्‍यम् लाइव, दिल्ली || मुकंदपुर इलाके में सोमवार देर रात हार्डवेयर कारोबारी फतेह सिंह उर्फ सोनू सिसोदिया पर जानलेवा हमले में तीन हमलावरों को गिरफ्तार किया गया है उनकी पहचान मुकेश बोना, राहुल लक्कड़ व विक्की के रूप […]
  • भारतीय पुनर्वास परिषद के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का …
    सत्यम लाइव, काशीपुर: आज दिनांक 7:10 2019 को उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में भारतीय पुनर्वास परिषद नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का समापन किया गया जिसमें विशेष शिक्षा से […]
  • नवदुर्गा या नव आयुर्वेद
    आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन का ज्ञान’ और यही संक्षेप में आयुर्वेद का सार है।हिताहितं सुखं […]
  • घरेलू भोज्‍य, दो मिनट में तैयार
    सत्‍यम् लाइव, कानपुर: भारतीय संस्‍कृृ‍ति की ”अतिथि देवोभव” जैसी परम्‍परा अब समाप्‍त सी होती जा रही है। ये कहने की आवश्‍यकता नहीं है कि पूूूरेे विश्‍व में भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जो जहाॅॅ की नारी को […]
  • पहली बार सुभाष चन्‍द्रबोस ने कहा था राष्‍ट्रपिता
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: मोहनदास करमचन्द गांधी  (2 अक्‍टूबर 1889- 30 जनवरी 1948) भारतीय स्‍वातंत्ररता आन्‍दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्‍याग्रह (सविनय अवज्ञा) के प्रतिकार के अग्रणी […]
  • न भूतो न भविष्‍यति ….. सुनील शुक्‍ल
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: 2 अक्‍टूूूूबर को भारत में दो महान पुरूष ने जन्‍म लिया है एक थे महात्‍मा गॉधी (2 अक्‍टूबर 1869 – 30 जनवरी 1949) तथा दूूूसरे न भूतो न भविष्‍यति भारत के द्वितीय प्रधानमंंत्री लालबहादुर […]
  • स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक राजीव दीक्षित
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक इलेक्‍ट्र्राा‍निक्‍स एण्‍ड कम्‍युनिकेेेेेशन से आईआईटी करने के बाद भारत के कई पुुराने विषयों पर शोध कार्य करने वाले को आज महर्षि राजीव दीक्षित के नाम से जाना जाता […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


18 + 8 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.