Trending News
prev next

लुई ब्रेल के जन्म एवं लुई ब्रेल लिपि के विकास मे लुई ब्रेल का योगदान नेत्रहीनों को एक नया जीवन यापन करने के लिए महत्वपूर्ण योगदान एवं कार्य- डॉ. मुरली सिंह

सत्यम् लाइव, 3 जनवरी 2021 : लूई ब्रेल (4 जनवरी 1809 – 6 जनवरी 1844) फ्रांस के शिक्षाविद तथा अन्वेषक थे जिन्होने नेत्रहीनों के लिये लिखने तथा पढ़ने की प्रणाली विकसित की। यह पद्धति ‘ब्रेल’ नाम से जगप्रसिद्ध है। फ्रांस में जन्मे लुई ब्रेल नेत्रहीनों के लिए ज्ञान के चक्षु बन गए। ब्रेल लिपि के निर्माण से नेत्रहीनों की पढ़ने की कठिनाई को मिटाने वाले लुई स्वयम भी नेत्रहीन थे। लुइस ब्रेल का जन्म 4 जनवरी 1809 में फ्रांस के छोटे से ग्राम कुप्रे में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। इनके पिता साइमन रेले ब्रेल शाही घोडों के लिये काठी और जीन बनाने का कार्य किया करते थें। पारिवारिक आवश्यकताओं के अनुरूप पर्याप्त आर्थिक संसाधन नहीं होने के कारण साइमन केा अतिरिक्त मेहनत करनी होती थी इसीलिये जब बालक लुइस मात्र तीन वर्ष के हुये तो उनके पिता ने उसे भी अपने साथ घोड़ों के लिये काठी और जीन बनाने के कार्य में लगा लिया।

अपने स्वभाव के अनुरूप तीन वर्षीय बालक अपने आस पास उपलब्ध वस्तुओं से खेलने में अपना समय बिताया करता था इसलिये बालक लुइस के खेलने की वस्तुये वही थीं जो उसके पिता द्वारा अपने कार्य में उपयोग की जाती थीं जैसे कठोर लकड़ी, रस्सी, लोहे के टुकडे, घोड़े की नाल, चाकू और काम आने वाले लोहे के औजार। किसी तीन वर्षीय बालक का अपने नजदीक उपलब्ध वस्तुओं के साथ खेलना और शरारतों में लिप्त रहना नितांत स्वाभाविक भी था। एक दिन काठी के लिये लकड़ी को काटते में इस्तेमाल किया जाने वाली चाकू अचानक उछल कर इस नन्हें बालक की आंख में जा लगी और बालक की आँख से खून की धारा बह निकली। रोता हुआ बालक अपनी आंख को हाथ से दबाकर सीधे घर आया और घर में साधारण जडी लगाकर उसकी आँख पर पट्टी कर दी गयी। शायद यह माना गया होगा कि छोटा बालक है सेा शीघ्र ही चोट स्वतः ठीक हो जायेगी। बालक लुइस की आंख के ठीेक होने की प्रतीक्षा की जाने लगी। कुछ दिन बाद बालक लुइस ने अपनी दूसरी आंख से भी कम दिखलायी देने की शिकायत की परन्तु यह उसके पिता साइमन की साघन हीनता रही होगी अथवा लापरवाही जिसके चलते बालक की आँख का समुचित इलाज नहीं कराया जा सका और धीरे धीरे वह नन्हा बालक आठ वर्ष का पूरा होने तक पूरी तरह दृष्टि हीन हो गया।

रंग बिरंगे संसार के स्थान पर उस बालक के लिये सब कुछ गहन अंधकार में डूब गया। अपने पिता के चमडे के उद्योग में उत्सुकता रखने वाले लुई ने अपनी आखें एक दुर्घटना में गवां दी। यह दुर्घटना लुई के पिता की कार्यशाला में घटी। जहाँ तीन वर्ष की उम्र में एक लोहे का सूजा लुई की आँख में घुस गया।

ये भी पढ़े: दिव्यांगों के लिए काशीपुर उधम सिंह नगर में नई पहल का आयोजन किया- सतीश

ब्रेल लिपि का विकास
यह बालक कोई साधरण बालक नहीं था। उसके मन में संसार से लडने की प्रबल इच्छाशक्ति थी। उसने हार नहीं मानी और फा्रंस के मशहूर पादरी बैलेन्टाइन की शरण में जा पहुंचा। पादरी बैनेन्टाइन के प्रयासों के चलते 1819 में इस दस वर्षीय बालक को ‘ रायल इन्स्टीट्यूट फार ब्लाइन्डस् ’ में दाखिला मिल गया। यह वर्ष 1821 था। बालक लुइस अब तक बारह बर्ष का हो चुका था। इसी दौरान विद्यालय में बालक लुइस केा पता चला कि शाही सेना के सेवानिवृत कैप्टेन चार्लस बार्बर ने सेना के लिये ऐसी कूटलिपि का विकास किया है जिसकी सहायता से वे टटोलकर अंधेरे में भी संदेशों के पढ सकते थे। कैप्टेन चार्लस बार्बर का उद्देश्य युद्व के दौरान सैनिकों को आने वाली परेशानियों को कम करना था। बालक लुइस का मष्तिष्क सैनिकों के द्वारा टटोलकर पढ़ी जा सकने वाली कूटलिपि में दृष्ठिहीन व्यक्तियो के लिये पढने की संभावना ढूंढ रहा था। उसने पादरी बैलेन्टाइन से यह इच्छा प्रगट की कि वह कैप्टेन चार्लस बार्बर से मुलाकात करना चाहता है। पादरी ने लुइस की कैप्टेन से मुलाकात की व्यवस्था करायी। अपनी मुलाकात के दौरान बालक ने कैप्टेन के द्वारा सुझायी गयी कूटलिपि में कुछ संशोधन प्रस्तावित किये। कैप्टेन चार्लस बार्बर उस नेत्रहीन बालक का आत्मविश्वाश देखकर दंग रह गये। अंततः पादरी बैलेन्टाइन के इस शिष्य के द्वारा बताये गये संशोधनों को उन्होंने स्वीकार किया।इस प्रकार एक राष्ट के द्वारा अपनी ऐतिहासिक भूल का प्रायश्चित किया गया परन्तु लूइस द्वारा किये गये कार्य अकेले किसी राष्ट्र के लिये न होकर सम्पूर्ण विश्व की दृष्ठिहीन मानव जाति के लिये उपयोगी थे अतः सिर्फ एक राष्ट् के द्वारा सम्मान प्रदान किये जाने भर से उस मनीषी को सच्ची श्रद्वांजलि नहीं हो सकती थी। विगत वर्ष 2009 में 4 जनवरी को जब लुइस ब्रेल के जन्म को पूरे दो सौ वर्षों का समय पूरा हुआ तो लुई ब्रेल जन्म द्विशती के अवसर पर हमारे देश ने उन्हें पुनः पुनर्जीवित करने का प्रयास किया जब इस अवसर पर उनके सम्मान में डाक टिकट जारी किया गया।

यह शायद पहला अवसर नहीं है जब मानव जाति ने किसी महान आविष्कारक के कार्य को उसके जीवन काल में उपेक्षित किया और जब वह महान आविष्कारक नहीं रहे तो उनके कार्य का सही मूल्यांकन तथा उन्हें अपेक्षित सम्मान प्रदान करते हुये अपनी भूल का सुधार किया। ऐसी परिस्थितियां सम्पूर्ण विश्व के समक्ष अक्सर आती रहती हैं जब किसी महान आत्मा के कार्य को समय रहते ईमानदारी से मूल्यांकित नहीं किया जाता तथा उसकी मृत्यु के उपरान्त उसके द्वारा किये गये कार्य का वास्तविक मूल्यांकन हो पाता है। ऐसी भूलों के लिये कदाचित परिस्थितियों को निरपेक्ष रूप से न देख पाने की हमारी अयोग्यता ही हो सकती है।
(*उपरोक्त सामग्री विभिन्न किताबों, गूगल व अन्य माध्यमों से जानकारी प्राप्त की गई)

लेखक डॉक्टर मुरली सिंह
प्रांत सचिव सक्षम मेरठ प्रांत

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • 18 जून 1858 को शहीद हुई थीं लक्ष्मीबाई
    सत्यम् लाइव, 18 जून, 2021, दिल्ली।। लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी में 19 नवम्बर 1828 को हुआ था। उनका बचपन का नाम मणिकर्णिका था लेकिन प्यार से उन्हें मनु कहा जाता था। उनकी माँ का नाम भागीरथीबाई और पिता का नाम मोरोपंत […]
  • बिहार में बाढ का खतरा
    सत्यम् लाइव, 18 जून 2021, दिल्ली।। चैत्र मास लगते ही यास तूफान ने प्रकृति के सारे समीकरण को बदल कर रख दिया है वैसे तो पूरे देश में भयंकर बारिश हुई है और स्थिति ये है कि राजस्थान के उदयपुर जैसे शहर में पानी का स्तर […]
  • नव उदारवाद की तरफ बढाये जा सकते हैं कदम
    सत्यम् लाइव, 17 जून 2021, दिल्ली।। कोरोना काल में सरकारें आगे आई है। प्रायः जो कुछ बाजार के भरोसे छोड़ दिया जाता रहा है उसे अब सरकारें नियंत्रित कर रही है।कोरोना काल के बाद जैसे ही सरकारें आगे आई है उसके बाद से कई […]
  • उत्तर ट्रस्ट को देना चाहिए …. आचार्य सत्येंद्र मुख्य पुजारी
    सत्यम् लाइव, 16 जून 2021, दिल्ली।। जिस प्रकार का आरोप लग रहा है इसका उत्तर ट्रस्ट को देना चाहिए। केवल 5 मिनट में 2 करोड़ की सं​पत्ति 18.5 करोड़ की खरीदी जाती है, इतनी महंगी जमीन विश्व में कहीं नहीं होगी। इसकी जांच […]
  • राजस्थान सरकार बनाएगी वैदिक शिक्षा व संस्कार बोर्ड
    सत्यम् लाइव, 16 जून 2021 दिल्ली।। भारतीय जनता के जाग्ररूकता का ही परिणाम कहा जा सकता है कि राजस्थान सरकार ने वैदिक शिक्षा एवं संस्कार बोर्ड बनाने की घोषणा कर दी है। राज्य के तकनीकी और संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री […]
  • मैंने यह पौधा रोपा है व गोद भी लिया है और यह पौधा आजीवन मेरा है : इंस्पेक्ट…
    सत्यम लाइव, दिल्ली : थानाध्यक्ष भारत नगर के मोहर सिंह मीणा ने अपने थाने के प्रांगण में अमरूद का पौधारोपण किया और उन्होंने शपथ लिया की वह आजीवन इस पौधे की देखभाल करेंगे। खास बात यह रही कि उन्होंने किसी भी पुलिस […]
  • मै कौन हूॅ? ……. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत
    सत्यम् लाइव, 15 जून 2021, दिल्ली।। सुशांत सिंह राजपूत को दुनिया से गए आज एक साल पूरा हो चुका है. 14 जून 2020 को सुशांत सिंह राजपूत को उनके मुंबई के बांद्रा स्थित अपार्टमेन्ट में मृत पाये जाते हैं। इस विषय को जरा […]

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.