Trending News
prev next

दिव्यांग हैं तो एप से चुनाव आयोग को दें सूचना, बीएलओ पहुंचेगा घर

lok sabha chunav 2019

दिल्ली : कोई भी दिव्यांग मतदाता बनने या वोट डालने से न चूके, इसलिए निर्वाचन आयोग ने नई सुविधा शुरू की है। दिव्यांग मतदाता के रूप में मतदाता अपना पंजीयन एप के जरिए चुनाव आयोग में करा सकता है। पंजीयन के बाद बीएलओ (बूथ लेवल ऑफिसर) दिव्यांग मतदाता से संपर्क करेंगे। वोट जोड़ने या मतदाता करने की व्यवस्था की जिम्मेदारी निभाएगा। इसे गूगल प्ले स्टोर से आसानी के साथ डाउनलोड किया जा सकता है। इसमें दिव्यांग के लिए अन्य सुविधाएं भी दी गई हैं। जिससे दिव्यांग मतदाताओं को मतदान करने में आसानी हो।

आमतौर पर दिव्यांग मतदाता घर से मतदान केन्द्र तक पहुंचने व इसके बाद लाइन में लगने की झंझट से बचने के लिए मतदान करने नहीं जाते। दिव्यांग मतदाता अधिक संख्या में मतदान कर सकें, इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग ने दिव्यांग एप लांच किया है। एप के जरिए दिव्यांग मतदाता को चुनाव आयोग में अपने आपको को दिव्यांग मतदाता के रूप में चिह्नित कराना होगा। आयोग में चिह्नित हो जाने के बाद चिह्नित दिव्यांग मतदाता का मतदान कराने की जिम्मेदारी बीएलओ की होगी।

ये भी पढ़ें : वोटर लिस्ट से नाम काटने की सूचना देने की शिकायत पर पुलिस की Call Centers पर कार्रवाई से गरमाई राजनीति

घर पहुंचकर समस्याओं का समाधान करेगा बीएलओ : एप पर जैसे ही आप किसी भी प्रकार का आग्रह या जानकारी देते हैं, तो चुनाव आयोग यह तय करेगा कि बीएलओ आपके घर पहुंचकर आपसे संपर्क करें। मतदान में आने वाली हर समस्या का समाधान करने की जिम्मेदारी बीएलओ की होगी। एप के सहयोग से इस बार दिव्यांगों को और अधिक सुविधाएं मुहैया कराने के लिए निर्वाचन आयोग प्रयास कर रहा है।

गूगल प्ले स्टोर से कर सकते हैं एप को डाउनलोड : इस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता हैं। एप में व्हील चेयर की डिमांड, नए दिव्यांग मतदाता के रूप में नाम जुड़वाने का आग्रह, मतदान केन्द्र की जानकारी, मतदाता सूची में नाम स्थानांतरण करने के आग्रह के साथ नाम में अगर भी प्रकार की गड़बड़ी है, तो उसमें सुधार का नाम विलोपित करने का आग्रह भी किया जा सकता हैं।

विज्ञापन

http://www.satyamlive.com/advertise-with-us/

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


fifteen − eleven =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »