Trending News
prev next

कम नम्‍बर आने पर भी खाते-खिलाते थे लड्डू

सत्‍यम् लाइव, 16 जुलाई 2020, दिल्‍ली।। 1991 से पहले तो भारतीय शिक्षा व्‍यवस्‍था ऐसी थी कि मेेेेरे शिक्षक मुझे कुर्सी बना दिया करते थे जो आज कल बाबा रामदेव अपने भक्‍तों को प्राणायाम में, बना देेते हैं। शिक्षक जब अपने गले से लगा लेते थे तो ऐसा लगता था कि मानो स्‍वर्ग की ऊॅचाई पा ली हो। खेल-खेल में या पढने मेें जो सजा मुझे शिक्षक ने दी उसी के कारण ही आज मेरी कलम इस निर्णय तक पहुॅच चुकी है। उस समय जब शिक्षक अपने बच्‍चों को, ज्ञान देते थे तो दूसरे से तुलना के आधार पर शिक्षा नहीं देते थे। 36 प्रतिशत आने पर शिक्षक के घर मेें सहित सभी को मिठाई खिलाई जाती है परन्‍तु आज 92 प्रतिशत पर आत्‍महत्‍या की जा रही है ऐसी ही कुछ खबरे लगातार आ रही हैं। नम्‍बर आने से यदि ज्ञान मिल जाता तो आगे सब परीक्षा बन्‍द करके इसी अंक के आधार पर जीवन चलाया जाता आज आप देखो कि जो जितना ज्‍यादा पढा लिखा है वो उतना ही ज्‍यादा परेशान है और जो कम पढा लिखा है उसको कोई बीमारी भी नहीं लगती है। यूपी बोर्ड में कप्तानगंज थाना क्षेत्र के बनकटा जगदीशपुर गांव निवासी एक छात्रा ने बोर्ड की परीक्षा मे नंबर कम आने पर फांसी लगाकर बुधवार की रात जान दे दी। कप्तानगंज बनकट जगदीश गांव निवासी 15 वर्षीया प्रिया मौर्य पुत्री राजेश मौर्य के परिजनों ने बताया कि प्रिया यूपी बोर्ड में 10 वीं की परीक्षा दी थी। परीक्षा परिणाम आने पर उसे 72 प्रतिशत अंक मिला है। जिससे व संतुष्ट नहीं थी, अपेक्षित अंक न मिलने से तनाव में थी। बुधवार की शाम वह किचेन में खाना बना रही थी। वह किचेन के रोशनदान से साड़ी के सहारे फांसी लगाकर आत्महत्या कर दी। काफी समय बाद उसके भाई किचेन में गए तो लटकाता हुआ शव देखा। जानकारी होते ही गांव के लोग मौके पर आ गए। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। प्रिया के पिता कप्तानगंज बाजार में एक इलेक्ट्रानिक दुकान पर तथा मां ब्यूटी पार्लर काम करती है, ये दो भाई में अकेली थी। ऐसा ही एक खबर मेें एक बालक ने आत्‍महत्‍या कर ली है जिसके अपनी पढाई के अनुसार अंक की प्राप्ति नहीं कर सका।

अंक जीवन को नहीं चलाता है जीवन बिना अंको के आधार पर आज तक चलता आया है और आगे भी चलता रहेगा। अंकों के आधार पर तो अव्‍यवस्‍था ही चलती है जो आज चल रही है। इतना पढने के बाद भी एक बडा अधिकारी अनपढ को जी सर नहीं कहता फिर रहा है अंग्रेजीयत शिक्षा व्‍यवस्‍था में कुछ सिखाने को नहीं है इसी कारण सेे एक दूसरे केे बीच में नम्‍बर लाने का कम्‍प्‍टीशन स्‍वयं शिक्षक उत्‍पन्‍न करा रहे हैं और मॉ-बाप भी उसे हवाई पूल बनाने में सहयोग कर रहे हैं जीवन सदैव शान्‍त चलाने के लिये पर्यावरण से शिक्षा लें। विदेशी मूल की पढाई को, आत्‍महत्‍या का कारण सब मिलकर बना रहे हो।

सुनील शुक्‍ल

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • 18 जून 1858 को शहीद हुई थीं लक्ष्मीबाई
    सत्यम् लाइव, 18 जून, 2021, दिल्ली।। लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी में 19 नवम्बर 1828 को हुआ था। उनका बचपन का नाम मणिकर्णिका था लेकिन प्यार से उन्हें मनु कहा जाता था। उनकी माँ का नाम भागीरथीबाई और पिता का नाम मोरोपंत […]
  • बिहार में बाढ का खतरा
    सत्यम् लाइव, 18 जून 2021, दिल्ली।। चैत्र मास लगते ही यास तूफान ने प्रकृति के सारे समीकरण को बदल कर रख दिया है वैसे तो पूरे देश में भयंकर बारिश हुई है और स्थिति ये है कि राजस्थान के उदयपुर जैसे शहर में पानी का स्तर […]
  • नव उदारवाद की तरफ बढाये जा सकते हैं कदम
    सत्यम् लाइव, 17 जून 2021, दिल्ली।। कोरोना काल में सरकारें आगे आई है। प्रायः जो कुछ बाजार के भरोसे छोड़ दिया जाता रहा है उसे अब सरकारें नियंत्रित कर रही है।कोरोना काल के बाद जैसे ही सरकारें आगे आई है उसके बाद से कई […]
  • उत्तर ट्रस्ट को देना चाहिए …. आचार्य सत्येंद्र मुख्य पुजारी
    सत्यम् लाइव, 16 जून 2021, दिल्ली।। जिस प्रकार का आरोप लग रहा है इसका उत्तर ट्रस्ट को देना चाहिए। केवल 5 मिनट में 2 करोड़ की सं​पत्ति 18.5 करोड़ की खरीदी जाती है, इतनी महंगी जमीन विश्व में कहीं नहीं होगी। इसकी जांच […]
  • राजस्थान सरकार बनाएगी वैदिक शिक्षा व संस्कार बोर्ड
    सत्यम् लाइव, 16 जून 2021 दिल्ली।। भारतीय जनता के जाग्ररूकता का ही परिणाम कहा जा सकता है कि राजस्थान सरकार ने वैदिक शिक्षा एवं संस्कार बोर्ड बनाने की घोषणा कर दी है। राज्य के तकनीकी और संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री […]
  • मैंने यह पौधा रोपा है व गोद भी लिया है और यह पौधा आजीवन मेरा है : इंस्पेक्ट…
    सत्यम लाइव, दिल्ली : थानाध्यक्ष भारत नगर के मोहर सिंह मीणा ने अपने थाने के प्रांगण में अमरूद का पौधारोपण किया और उन्होंने शपथ लिया की वह आजीवन इस पौधे की देखभाल करेंगे। खास बात यह रही कि उन्होंने किसी भी पुलिस […]
  • मै कौन हूॅ? ……. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत
    सत्यम् लाइव, 15 जून 2021, दिल्ली।। सुशांत सिंह राजपूत को दुनिया से गए आज एक साल पूरा हो चुका है. 14 जून 2020 को सुशांत सिंह राजपूत को उनके मुंबई के बांद्रा स्थित अपार्टमेन्ट में मृत पाये जाते हैं। इस विषय को जरा […]

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.