Trending News
prev next

हयूमेन केयर वेलफेयर एसोसिएशन (रजि0) ने किया भंडारे का आयोजन !

Humayun Care Welfare Association (REG) has organized Bhandara!

दिल्ली : 19 अप्रैल 2019 को हनुमान जयंती के शुभ अवसर पर हयूमेन केयर वेलफेयर एसोसिएशन (रजि0) के द्वारा मंडोली रोड़ शाहदरा दिल्ली पर स्थित विशाल भंडारे का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर अध्यक्ष श्री विजेन्द्र कुमार, सचिव श्री जयानन्द, संस्थापक सदस्य वरूण चौहान, विपिन शर्मा, गुलशन शर्मा, शुभम, प्रवेश कुमार पॉंचाल, सौरभ श्रीवास्तव, प्रदीप पॉंचाल, प्रवीण नरूला, विनित कुमार पॉंचाल, रोहित, शक्ति, बबलू, संगीत, इंद्रजीत, अमन डांगी, रोसी, अरनव पॉंचाल, श्रीमति सुदेश, मीनू, श्रुति, रौनक, रीनू, नेहा एंव संस्था के वरिष्ठ सदस्य श्री खचेडू सिंह, भवर सिंह, हरबीर सिंह पॉंचाल सहित बड़ी संख्या में संस्था के सदस्य मौजूद रहे।

यह भंडारा सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत है। श्रद्वालुओ में हलवा, पूड़ी, सब्जी का प्रसाद का वितरण किया गया। भंडारा क्यो करवाते है लोग वैदिक ग्रंथों में बताया गया है कि धर्म के चार चरण होते है सत्य, तप, पवित्रता और दान। वैदिक धर्म में ब्राहमण और गरीबों को दान देना विधन माना गया है दान के कई रूप होते है जैसे अन्नदान, वस्त्रदान, विद्यादान, अभयदान ओर धनदान। दान में सबसे बड़ा दान अन्नदान माना जाता है इसलिए लोग सबसे ज्यादा भंडारा करवाते है ताकि ज्यादा से ज्यादा अन्न का दान किया जा सके दुनिया का सबसे बड़ा दान अन्नदान माना गया है यदि अन्न न हो तो मनुष्य जीवित नहीं रह सकता है अन्न हमारे शरीर ओर आत्मा दोनो को प्रसन्नता ओ संतुष्टि प्रदान करता है। इसिलिये सभी दानो में से अन्नदान को सर्वोपरि माना गया है।

ये भी पढ़े : ईस्ट दिल्ली में पहली बार Digital Eyes Testing – शांति ऑप्टिकल्स !

उक्त अवसर पर संस्था के तत्वावधान में कई सामाजिक मुद्दो के लिए भी लोगो को जागरूक किया गया। संस्था ने मतदान के प्रति आमजन को जागरूक करने के लिए शब्द श्रखंला बनाकर लोगो को आने वाली 12 मई, 2019 को मतदान के लिए प्रेरित किया। संस्था के संस्थापक सदस्य सचिव श्री जयानन्द ने कहा कि आपका एक-एक मत कीमती है। आने वाली 12 मई को मतदान अवश्य करे। संस्था ने बेटी-बचाओ, बेटी पढ़ाओ का भी संदेश दिया, बेटियां राष्ट्र के सम्मान प्रतिष्ठा ओर गौरव को आसमां की बुलंदियो तक पहुॅंचा रही है, बेटी-बचाओ, बेटी पढ़ाओ, नारी का सम्मान करो के नारे के साथ आमजन को जागरूक किया। संस्था ने पर्यावरण और जल बचाने के लिए भी लोगो को जागरूक किया। जल ही जीवन है। इसे सुरक्षित व संरक्षित रखना हम सबका कर्तव्य है। जल संरक्षण एंव पर्यावरण को बचाने के प्रति भी आमजन को जागरूक किया। संस्था द्वारा किया गया यह प्रयास वर्तमान व भविष्य के लिए सत्प्रेरणा व जनोपयोगी बने यही सुभाशंसा।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • प्रगति ने जीता ईवा इंडिया दिल्ली 2019 का खिताब
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली (18th October 2019 ): भारत की सबसे बड़ी सौंदर्य प्रतियोगिता ईवा इंडिया इस बार फिर से खूबसूरत लड़कियों को अपनी काबिलियत दिखने का मौका दे रही है | ईवा इंडिया का यह तीसरा साल है, यह सौंदर्य […]
  • मुकुंदपुर में हार्डवेयर कारोबारी पर हमले में तीन गिरफ्तारिया …
    सत्‍यम् लाइव, दिल्ली || मुकंदपुर इलाके में सोमवार देर रात हार्डवेयर कारोबारी फतेह सिंह उर्फ सोनू सिसोदिया पर जानलेवा हमले में तीन हमलावरों को गिरफ्तार किया गया है उनकी पहचान मुकेश बोना, राहुल लक्कड़ व विक्की के रूप […]
  • भारतीय पुनर्वास परिषद के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का …
    सत्यम लाइव, काशीपुर: आज दिनांक 7:10 2019 को उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में भारतीय पुनर्वास परिषद नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का समापन किया गया जिसमें विशेष शिक्षा से […]
  • नवदुर्गा या नव आयुर्वेद
    आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन का ज्ञान’ और यही संक्षेप में आयुर्वेद का सार है।हिताहितं सुखं […]
  • घरेलू भोज्‍य, दो मिनट में तैयार
    सत्‍यम् लाइव, कानपुर: भारतीय संस्‍कृृ‍ति की ”अतिथि देवोभव” जैसी परम्‍परा अब समाप्‍त सी होती जा रही है। ये कहने की आवश्‍यकता नहीं है कि पूूूरेे विश्‍व में भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जो जहाॅॅ की नारी को […]
  • पहली बार सुभाष चन्‍द्रबोस ने कहा था राष्‍ट्रपिता
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: मोहनदास करमचन्द गांधी  (2 अक्‍टूबर 1889- 30 जनवरी 1948) भारतीय स्‍वातंत्ररता आन्‍दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्‍याग्रह (सविनय अवज्ञा) के प्रतिकार के अग्रणी […]
  • न भूतो न भविष्‍यति ….. सुनील शुक्‍ल
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: 2 अक्‍टूूूूबर को भारत में दो महान पुरूष ने जन्‍म लिया है एक थे महात्‍मा गॉधी (2 अक्‍टूबर 1869 – 30 जनवरी 1949) तथा दूूूसरे न भूतो न भविष्‍यति भारत के द्वितीय प्रधानमंंत्री लालबहादुर […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


13 − 6 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.