Trending News
prev next

Farmers Protest: दिल्ली में और बिगड़ सकते हैं हालात, पंजाब से 50 हजार किसान सिंघु बॉर्डर रवाना

सत्‍यम् लाइव, 11 दिसम्बर 2020, दिल्ली : किसानों का आंदोलन (#Farmers Protest) आने वाले दिनों में ओर गंभीर हो सकता है. पंजाब के विभिन्न इलाकों से 50 हजार किसान दिल्ली की ओर निकल पड़े हैं. वे अपने साथ राशन-पानी भी साथ लेकर चल रहे हैं|

 दिल्ली में नए कृषि कानूनों (New Farm Law) के खिलाफ चल रहा किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) आने वाले दिनों में और बड़ा हो सकता है. पंजाब (#Punjab) के अलग-अलग इलाकों से करीब 50 हजार किसान दिल्ली की ओर रवाना हो रहे हैं. करीब 12 सौ ट्रैक्टर ट्रॉलियों में आ रहे किसान अपने साथ 6 महीने का राशन भी लेकर आ रहे हैं|

1200 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के साथ किसान रवाना |
मोगा पहुंचे किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के पंजाब के प्रधान सतनाम सिंह ने कहा कि शुक्रवार को पंजाब के अलग-अलग जिलों से लगभग 1200 ट्रालियों के साथ 50 हजार किसान दिल्ली रवाना हुए हैं. इन किसानों में फिरोजपुर, फाजिल्का, अबोहर, फरीदकोट और के किसान भी शामिल हैं. किसान अपने साथ ठंड से बचने के लिए तिरपाल, गर्म कपड़े और अगले कई महीनों का राशन भी साथ लेकर निकले हैं. 

ये भी पढ़े:किसान आंदोलन में अवार्ड वापसी

सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने ही होंगे |
मजदूर संघर्ष कमेटी के प्रधान सतनाम सिंह पन्नू ने कहा कि हम दिल्ली मरने के लिए जा रहे हैं.मोदी सरकार तैयार हो जाए कि हमें कैसे मारना है , हम किसी भी हालत में अपनी जमीन नहीं छोड़ेंगे. उन्होंने कहा कि किसान (Farmers Protest: Situation may worsen in Delhi, 50 thousand farmers from Punjab leave Singhu border) इस मुद्दे पर झुकने वाले नहीं है. सरकार को ये तीनों कृषि कानून हर हालत में वापस लेने होंगे|

 चंडीगढ़ की संस्था 10 हजार मास्क लेकर पहुंची
उधर किसानों के समर्थन में अब कई संस्था विभिन्न सामान लेकर सिंघु बॉर्डर पर पहुंच रही हैं. चंडीगढ़ की संस्था 10 हजार से ज़्यादा मास्क लेकर सिंघु बॉर्डर पर पहुंची है. इन मास्क को वहां किसानों में बांटा जा रहा है. संस्था का कहना है कि आंदोलन के लिए किसानों (#Farmers Protest) का स्वस्थ रहना जरूरी है. वहीं एक अन्य संस्था ने आंदोलनरत किसानों के लिए सिंघु बॉर्डर पर लॉन्ड्री शुरू की है. जिसमें किसानों के गंदे कपड़े निशुल्क धोए जा रहे हैं|

हिमांशु कुमार (संवाददाता)

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.