Trending News
prev next

नेत्रदान पर जागरूक अभियान

सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के राष्ट्रीय संगठन मंत्री आदरणीय डॉ सुकुमार द्वारा अपने उद्बोधन में अंधत्व के बढ़ते कारणों पर चिंता व्यक्त करने के साथ ही नेत्रदान के प्रति लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने बताया कि नेत्रों से संबंधित अन्य रोग और नेत्रों की सुरक्षा और स्वास्थ्य के प्रति हम सभी को जागरूक होना होगा और साथ ही समाज को भी जागरूक करना आवश्यक है। सक्षम के कार्यकर्ताओं व मुक्त विश्वविद्यालय के विशेष शिक्षा के विद्यार्थियों द्वारा संयुक्त रुप से उत्तराखंड प्रांत में नेत्रदान के लिए लोगों को जागरूक किया जा सकता है। अति विशिष्ट अतिथि उत्तराखंड प्रांत के प्रांत प्रचारक श्री युद्धवीर जी ने अपना उद्बोधन में कहा कि नेत्रदान के लिए स्वयं सेवकों की एक टीम बननी चाहिए और वह लोगों को जागरूक करे नेत्रदान के फॉर्म भरे व साथ ही सुमधुर वाणी से लोगों को आत्मविश्वास में लेकर नेत्र दान के प्रति जागरूक करने की आवश्यकता है और इसके लिए नेत्रदान हमें स्वयं से ही प्रारंभ करना होगा साथ ही उन्होंने अपेक्षा की कि शिक्षण संस्थानों को इस कार्य में अधिक सहयोग करना चाहिए। विशिष्ट अतिथि उत्तराखंड सक्षम प्रांत प्रभारी एवं राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य श्री राम मिश्रा जी ने अपने उद्बोधन में कहा की कार्यकर्ताओं को नेत्र दान करने के प्रति जागरूक होने के लिए प्रशिक्षण भी लेना आवश्यक है कि लोगों को किस प्रकार से नेत्रदान के प्रति प्रेरित कर सकते हैं साथ ही प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों को से भी उन्होंने अपेक्षा की कि वह भी नेत्रदान के प्रति अपने परिवार समाज और आसपास रहने वाले लोगों को जागरूक करेंगे। मुख्य वक्ता राष्ट्रीय दृष्टिबाधित संस्थान देहरादून से सेवानिवृत्त प्रोफेसर गीतिका माथुर ने नेत्र की क्रिया विधि के बारे में और नेत्र द्वारा देखने की प्रक्रिया का वैज्ञानिक पहलू के बारे में विस्तार से बताया साथ ही उन्होंने नेत्रों में होने वाले विभिन्न रोग और उनसे बचाव संबंधी जानकारी दी और नेत्रदान के प्रति आने वाली विभिन्न भ्रांतियों का निराकरण भी किया साथ ही उन्होंने स्वयं भी अपने नेत्रदान से संबंधित प्रपत्र के बारे में बताते हुए कहा कि जब तक हम स्वयं नेत्रदान के लिए पहल नहीं करेंगे तब तक अगला व्यक्ति सामने नहीं आएगा इसलिए हमें स्वयं पहल करनी जरूरी है। वेबीनार की अध्यक्षता कर रहे उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के निदेशक प्रोफेसर एस.पी. शुक्ला ने सभी वक्ताओं को साधुवाद देते हुए समस्त युवा प्रतिभागियों से अपेक्षा की कि इस महत्वपूर्ण विषय पर ज्ञान तो लेंगे ही साथ ही साथ अपने समाज में रहने वाले लोगों को जागरूक करने की जिम्मेदारी भी उन्हीं को निभानी होगी।वेबीनार के अंत में सक्षम के प्रांतीय मंत्री श्री ललित पंत द्वारा सभी प्रतिभागियों अतिथियों वक्ताओं का धन्यवाद ज्ञापित किया गया। वेबीनार का संचालन कर रहे मुक्त विश्वविद्यालय के विशेष शिक्षा विभाग संयोजक व अनुसंधान प्रमुख डॉक्टर सिद्धार्थ पोखरियाल ने इस अवसर पर उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा संगठन सूक्त और कल्याण मंत्र को संगीतमय रिकॉर्डिंग के रूप में प्रस्तुत किया जिसे मुख्य अतिथि विशिष्ट अतिथि अति विशिष्ट अतिथि के माध्यम से वेबीनार में लांच किया गया। वेबीनार में प्रतिभागियों के रूप में सक्षम उत्तराखंड प्रांत इकाई के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ ही मुक्त विश्वविद्यालय के विशेष शिक्षा विभाग के विद्यार्थियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

सुनील शुक्‍ल

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.