Trending News
prev next

भारतीय रेलों में कैशलेस ट्रांसजेक्शन प्रारम्भ

सत्यम् लाइव, 5 फरवरी 2021, दिल्ली।। कैशलेश समाज की तरफ बढते कदम को आधुनिक शैली से पूरा करने का जो विचार चल रहा है निजिकरण के पग पर कदम बढाती रेलवे ने अपना काम आगे बढाते हुए गुजरात के अहमदाबाद रेलवे गुजरात के अहमदाबाद रेलवे स्टेशन पर बुधवार हर एक टीटीई के हाथ में पॉइंट ऑफ सेल (PoS) मशीनें लेकर स्‍टेशन पर देखें गये। ट्रेन के अंदर कैशलेस ट्रांजेक्शन को लेकर टीटीई अब इन मशीनों को साथ लेकर चलेगें। इससे टीटीई और यात्रियों को दोनों को फायदा होगा कि उन्हें छुट्टे रुपयों के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। वैसे ये लिखने में अब मुझे कोई अपत्ति नहीं है कि छुट्टे रुपयों का बहाना करके डिजिटल दुनिया में न्‍यू वर्ल्‍ड आर्डर पर काम चल रहा है। अहमदाबाद डिविजन के वेस्टर्न रेलवे में डिजिटाइज मॉनेट्रैरी ट्रांसजेक्शन प्रोग्राम के तहत 202 मशीनों का वितरण किया जा चुका है टीटीई इसका हिस्सा हैं। अधिकारियों ने मुताबिक कि इस प्रोग्राम का मकसद कैशलेस को बढ़ावा देना है। जल्द ही सारे टीटीई को पॉश मशीनें दी जाएंगी, ताकि ट्रेनों में पूरी तरह से कैशलेस ट्रांसजेक्शन हो सके। अहदमदाबाद रेलवे स्टेशन से लगभग 350 टीटीई संबद्ध हैं। इसके अलावा अहमदाबाद डिविजन के कालूपुर, साबरमती, मनीनगर, हिमंतनगर, कलोल, मेहसाणा, पालनपुर, वीरामगाम, ध्रंगधरा, गांधीधाम और न्यू भुज डिविजन को मिलाकर कुल 498 टीटीई की यहां पोस्टिंग हैं। ये सभी को मिलकर लोगों से जुर्माना लेगें । जैसे 35 किलो से ज्यादा वजन लेकर चलना की अनुमति नहीं है अत: जुर्माना भरना पडेेेेेगा। ट्रेन में थूकना या सिगरेट पीना, पांच साल से ज्यादा उम्र के बच्चे के साथ बिना टिकट सफर, वेटिंग टिकट पर यात्रा करना और बिना टिकट सफर करना। डिविजन रेलवे मैनेजर दीपक कुमार झा के मुताबिक वडोदरा डिविजन के टीटीई को 102 मशीनें, मुंबई के 80, रतलाम के 78, राजकोट के 113, भावनगर के 89 टीटीई को मशीनें दी गईं हैं।

सुनील शुक्ल

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.