Breaking News
prev next

52 भारतीय समेत 123 लोग मुसीबत अमेरिका की नीति के चलते

नई दिल्ली: बेहतर जीवन की तलाश में अमेरिका पहुंचे 52 भारतीयों समेत 123 अप्रवासी ट्रंप प्रशासन की नई आव्रजन नीति के फेर में फंस गए हैं। इन्हें हिरासत में ले लिया गया है। इनमें ज्यादातर दक्षिण एशियाई बताए जा रहे हैं। अमेरिकी मीडिया के अनुसार, 123 अप्रवासियों को ओरेगन प्रांत के यमहिल काउंटी की शेरिडान जेल में रखा गया है।

वकील वैलेरी कौर ने ट्वीट कर बताया है कि पकड़े गए 123 अप्रवासियों में करीब 70 दक्षिण एशियाई हैं। इनमें से 52 भारतीय, 13 नेपाली और दो बांग्लादेशी हैं। जबकि एनजीओ एशिया पैसिफिक अमेरिकन नेटवर्क ऑफ ओरेगन ने कहा कि इन बंदियों को अलग रखा गया है। इन्हें दुभाषिए की सीमित सुविधा मुहैया कराई गई है। जेल की मौजूदा व्यवस्था में इनके उत्पीड़न का भी खतरा है।

खबरों के अनुसार, दक्षिण एशियाई बंदियों में कई हिंदी और पंजाबी बोलने वाले हैं। जबकि कई की पहचान चीनी नागरिक के तौर पर की गई है। बंदियों में से कई ने खुद की पहचान सिख या ईसाई के तौर पर जाहिर की है। बता दें कि अमेरिका की नई आव्रजन नीति के कारण 19 अप्रैल से 31 मई के बीच करीब दो हजार से ज्यादा अप्रवासी बच्चे अपने परिवार से बिछड़ गए हैं।

मांगी अमेरिका में शरण
अमेरिकी डेमोक्रेटिक सांसदों के एक दल ने हाल में शेरिडान जेल का दौरा किया। उन्होंने बताया कि हिरासत में लिए गए अप्रवासियों ने अमेरिका से शरण देने की मांग की है। एक सांसद सुजैन बोनामिसि ने बताया, ‘पंजाबी दुभाषिए के जरिये हमें पता चला कि ये लोग शरण मांगने की योजना बना रहे हैं क्योंकि भारत में उन्हें भयंकर धार्मिक अत्याचारों का सामना करना पड़ा। ज्यादातर सिख या ईसाई हैं। उन्होंने बताया कि वे धार्मिक आजादी के लिए अमेरिका आए थे, लेकिन अब उन्हें लगता है कि वे पागल हो जाएंगे क्योंकि उन्हें दिन में 22 घंटों तक छोटी कोठरियों में रखा जा रहा है।’

विरोध में सांसद
सांसद अर्ल ब्लूमनॉयर ने कहा, ‘अमेरिकी इतिहास में यह शर्म का लम्हा है। मुझे इस बात की कोई परवाह नहीं है कि इमीग्रेशन पर आपका क्या रुख है, लेकिन कोई भी माता-पिता की बांहों से बच्चों को अलग करने का समर्थन नहीं करेगा।’

मेलानिया भी कर चुकी हैं विरोध
अमेरिका में नई आव्रजन नीति का विरोध बढ़ता जा रहा है। अमेरिका की फ‌र्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप भी विरोध कर चुकी हैं। जबकि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के प्रमुख जेड राड अल हुसैन इसे अनैतिक करार देते हुए इस नीति को खत्म करने की अपील की है।

क्या है नई आव्रजन नीति
ट्रंप सरकार ने अवैध रूप से सीमा पार करने वालों को लेकर नियमों में बदलाव किया है। इसके चलते वयस्कों को सीधे हिरासत में लिया जा रहा है। नतीजन, बच्चे अपने परिवार से दूर होने को मजबूर हो गए हैं। जबकि पुराने नियम के अनुसार पहली बार सीमा पार करने वालों पर साधारण अपराध का मुकदमा दर्ज किया जाता था।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • लव जेहाद से जुड़े मामले को लेकर यूपी का बरेली जनपद मंगलवार को गरमाया ।
    सत्‍यम् लाइव, 22 अक्टूबर 2020, बरैली || लव जेहाद से जुड़े मामले को लेकर यूपी का बरेली जनपद मंगलवार को गरमा गया। लड़की की सकुशल बरामदगी व आरोपी पक्ष पर कार्रव ाई की मांग को लेकर भाजपा समेत कई हिन्दू संगठनों ने किला […]
  • लेबर अधिकारियों के इंस्‍पेक्‍शन में दिल्‍ली के शिक्षा मंत्री
    सत्‍यम् लाइव, 21 अक्‍टूबर 2020 दिल्‍ली।। दिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री एवं शिक्षामंत्री मनीष सिसाैै‍दिया जी ने कल स्‍वयं पुष्‍प विहार के डिस्ट्रिक्‍ट लेबर कार्यालय का सरप्राइज इंस्‍पेक्‍शन किया। साथ ही ट्वीट करके लिखा […]
  • स्‍वस्‍थ जीवन के लिये घातक रसायनिक खाद्य
    सत्‍यम् लाइव, 20 अक्‍टूबर, 2020, दिल्‍ली।। इस कोरोना काल में लोगों को एहसास दिला दिया है कि शुद्ध शाकाहारी, स्वस्थ भोजन करने से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को संतुलन करके ऐसे अनेको वायरस से बचा जा सकता है वैसे भी […]
  • श्रीरामवरदायनी माता सती का परीक्षा स्‍थल
    सत्‍यम् लाइव, 17 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। शरदीय नवरात्रि के शुभ अवसर माता सती द्वारा श्रीराम परीक्षा लेेने की कथा आप सबने सुनी होगी आज नवरात्रि के अवसर पर माता के उस स्‍थल का परिचय कराने का पुन: अवसर प्राप्‍त होता […]
  • कलाम को सलाम
    सत्‍यम् लाइव, 15 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम अंसार परिवार में इनका जन्म हुआ उनके पिता जैनुलाब्दीन मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। […]
  • ओडिशा-तेलंगाना में भारी बारिश से 15 मरे
    सत्‍यम् लाइव, 14 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। अभी भी बारिश का कहर रूका नहीं है एक तरफ कोरोना को लेकर 900 करोड रूपयेे विज्ञापन पर खर्चा किया जा रहा है तो दूसरी तरफ प्रकृति की विनााश लीला पूरी तरह से प्रारम्‍भ है। अभी […]