Breaking News
prev next

नेता जी को नहीं स्‍वीकार थेे अंग्रेजी कानून

सत्‍यम् लाइव, 23 जनवरी 2020, दिल्‍ली नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस का जन्‍म 23 जनवरी सन् 1897 को ओडिश के कटक शहर में हुआ था। उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस तथा माता का प्रभावती था। 6 बहनों तथा 8 भाईयों मेें नेता जी 9वी सन्‍तान थे। कटक प्रोटेस्‍टेण्‍ट स्‍कूल से प्राइमरी शिक्षा पूर्ण कर 1909 में रेवेनशकॉलेजियेट स्‍कूल में दाखिला लिया। 1916 में जब वे दर्शन शास्‍त्र से बीए कर रहे थे तब छात्रों का नेतृत्‍व किया। बीए आनर्स 1999 में कलकत्‍ता में दूसरे स्‍थान पर थे। पिता की इच्‍छा के अनुसार आईसीएस की तैयारी करने में लग गये। 15 सितम्‍बर 1919 को आईसीएस की परीक्षा देने केे लिये इग्‍लैण्‍ड रवाना हो गये और किट्स वि‍लियम हाल में रहने का उचित प्रबन्‍ध किया और 1920 में आईसीएस की वरीयता सूची में चौथा नम्‍बर प्राप्‍त कर। सबको आश्‍चर्य में डाल दिया। पर दिलो दिमाग में विवेकानन्‍द और महर्षि अरविन्‍द घोष के आदर्शें ने कब्‍जा कर रखा था फिर अंग्रेजों की गुलामी कैसे कर पाते। अत: 22 अप्रैैैल 1921 को सचिव ई.एस. मान्‍टेग्‍यू को त्‍यागपत्र दे दिया। इस त्‍याग पत्र के बाद भारत वापस आ गये। कोलकाता के स्वतन्त्रता सेनानी देशबंधु चित्तरंजन दास के कार्य से प्रेरित होकर सुभाष दासबाबू के साथ काम करना चाहते थे। इंग्लैंड से उन्होंने दासबाबू को खत लिखकर उनके साथ काम करने की इच्छा प्रकट की। रवींद्रनाथ ठाकुर की सलाह के अनुसार भारत वापस आने पर वे सर्वप्रथम मुम्बई गये और महात्मा गांधी से मिले। मुम्बई में गांधी जी मणिभवन में निवास करते थे। वहाँ 20 जुलाई 1921 को गाँधी जी और सुभाष के बीच पहली मुलाकात हुई। गाँधी जी ने उन्हें कोलकाता जाकर दासबाबू के साथ काम करने की सलाह दी। इसके बाद सुभाष कोलकाता आकर दासबाबू से मिले। उन दिनों गाँधी जी ने अंग्रेज़ सरकार के खिलाफ असहयोग आंदोलन चला रखा था। दासबाबू इस आन्दोलन का बंगाल में नेतृत्व कर रहे थे। उनके साथ सुभाष इस आन्दोलन में सहभागी हो गये। 1922 में दासबाबू ने कांग्रेस के अन्तर्गत स्वराज पार्टी की स्थापना की। विधानसभा के अन्दर से अंग्रेज़ सरकार का विरोध करने के लिये कोलकाता महापालिका का चुनाव स्वराज पार्टी ने लड़कर जीता और दासबाबू कोलकाता के महापौर बन गये। उन्होंने सुभाष को महापालिका का प्रमुख कार्यकारी अधिकारी बनाया। सुभाष ने अपने कार्यकाल में कोलकाता महापालिका का पूरा ढाँचा और काम करने का तरीका ही बदल डाला। कोलकाता में सभी रास्तों के अंग्रेज़ी नाम बदलकर उन्हें भारतीय नाम दिये गये। स्वतन्त्रता संग्राम में प्राण न्यौछावर करने वालों के परिवारजनों को महापालिका में नौकरी मिलने लगी। बहुत जल्द ही सुभाष देश के एक महत्वपूर्ण युवा नेता बन गये। जवाहरलाल नेहरू के साथ सुभाष ने कांग्रेस के अन्तर्गत युवकों की इण्डिपेण्डेंस लीग शुरू की। 1927 में जब साइमन कमीशन भारत आया तब कांग्रेस ने उसे काले झण्डे दिखाये। कोलकाता में सुभाष ने इस आन्दोलन का नेतृत्व किया। साइमन कमीशन को जवाब देने के लिये कांग्रेस ने भारत का भावी संविधान बनाने का काम आठ सदस्यीय आयोग को सौंपा। मोतीलाल नेहरू इस आयोग के अध्यक्ष और सुभाष उसके एक सदस्य थे। इस आयोग ने नेहरू रिपोर्ट पेश की। 1928 में कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन मोतीलाल नेहरू की अध्यक्षता में कोलकाता में हुआ। इस अधिवेशन में सुभाष ने खाकी गणवेश धारण करके मोतीलाल नेहरू को सैन्य तरीके से सलामी दी। गाँधी जी उन दिनों पूर्ण स्वराज्य की माँग से सहमत नहीं थे। इस अधिवेशन में उन्होंने अंग्रेज़ सरकार से डोमिनियन स्टेटस माँगने की ठान ली थी। लेकिन सुभाषबाबू और जवाहरलाल नेहरू को पूर्ण स्वराज की माँग से पीछे हटना मंजूर नहीं था। अन्त में यह तय किया गया कि अंग्रेज़ सरकार को डोमिनियन स्टेटस देने के लिये एक साल का वक्त दिया जाये। अगर एक साल में अंग्रेज़ सरकार ने यह माँग पूरी नहीं की तो कांग्रेस पूर्ण स्वराज की माँग करेगी। परन्तु अंग्रेज़ सरकार ने यह माँग पूरी नहीं की। इसलिये 1930 में जब कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में लाहौर में हुआ तब ऐसा तय किया गया कि 26 जनवरी का दिन स्वतन्त्रता दिवस के रूप में मनाया जायेगा। 26 जनवरी 1931 को कोलकाता में राष्ट्र ध्वज फहराकर सुभाष एक विशाल मोर्चे का नेतृत्व कर रहे थे तभी पुलिस ने उन पर लाठी चलायी और उन्हें घायल कर जेल भेज दिया। जब सुभाष जेल में थे तब गाँधी जी ने अंग्रेज सरकार से समझौता किया और सब कैदियों को रिहा करवा दिया।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • अब आयेगा 1 रूपये का नया नोट
    सत्‍यम् लाइव, नई दिल्‍ली ११ फरवरी २०२०। वित्‍त मंत्रालय ने एक रूपये के नए नोट की छपाई से जुडी गजट सूूूूूचना को जारी किया है। सरकार की ओर से जारी ये अधिसूचना अंग्रेजी अखबार ‘फाइनेंशियल एक्‍सप्रेस’ की एक […]
  • दिल्ली चुनाव के रुझानों में जीतती दिखी AAP ,अरविंद केजरीवाल का दुबारा होगा मुख्य मं…
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार सुबह 8 बजे से मतों की गिनती जारी है। रुझानों में आम आदमी पार्टी 59 सीटों पर आगे चल रही है, बीजेपी 11 सीटों पर आगे चल रही है। ऐसे में अब आम आदमी पार्टी ने […]
  • भारत अमेरिका साझेदारी के नये कीर्तिमान …….. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
    नई दिल्‍ली, सत्‍यम् लाइव, दिनांक 7 फरवरी 2020, भारत और अमेरिका टू प्‍लस टू वार्ता की तैयारी में हैै। अमेरिका की धरती पर होने वाली द्विपक्षीय बैठक में यह समझौता भारत और अमेरिका को व्‍यापार में एक नया कीर्तिमान […]
  • अमेरिका के बाद अब रूस भी करेगा आपूूूूूर्ती कच्‍चे तेल की
    नई दिल्‍ली, सत्‍यम् लाइव, पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने ऊर्जा सुरक्षा की दिशा में एक बडा कदम बताते हुए कहा कि यह भारत और रूस के रिश्‍तों को तो मजबूत करेगा ही साथ ही भारत में बच्‍चे तेल की […]
  • मोदी जी के दिल्‍ली चुनाव मेें रैली
    विपक्ष पर वोटबैंक और तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जब आतंकी हमलों के गुनहगारों को दिल्ली पुलिस ने बाटला हाउस में मार गिराया, तो उसे फर्जी एनकाउंटर कहा गया था। यही वो लोग हैं जिन्होंने […]
  • दिल्‍ली का सियासी पारा बढा और वक्‍त आया कम होने का
    सत्‍यम् लाइव, 5 फरवरी 2020, दिल्‍ली में जैसे जैसे 8 फरवरी 2020 अर्थात् वोटिंग की तारीख पास आ रही है वैसे वैसे चुनावी पारा बढता साफ नजर आ रहा है। एक तरफ बीजेपी, तो दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी साथ ही कांग्रेस भी अपनी […]
  • अब बचत पर भी टैक्‍स
    वित्‍तमंत्री जी ने शनिवार को बजट किया पेश। पीएफ, एनपीएस पर निवेश सीमा तय। बजट में नौकरीपेशा में जुडे कई महत्‍वपूर्ण ऐलान किया। टैक्‍स में भी बदलाव किया गया है। वित्‍त मंत्री ने कहा 3 फरवरी, 2020 सत्‍यम् लाइव, नई […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.