Breaking News
prev next

40-45 करोड़ पर जीविका का संकट …. मार्कंडेय काटजू

Justice Markandey Katju is former Judge, Supreme Court of India and former Chairman, Press Council of India.

सत्‍यम्र् लाइव, 23 अप्रैल 2020, दिल्‍ली।। वैसे तो मार्कंंडेय काटजू को किसी परिचय का परिचय बताने के लिये शब्‍द कम पड जायेगें। फिर भी मार्कंंडेय काटजू प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन रह चुकेे हैं। भारत के सुप्रीम कोर्ट के जज रह चुके हैं इलाहाबाद से वकालत प्रारम्‍भ करने के बाद इलाहाबाद हाइकोर्ट, मद्रास हाइकोर्ट तथा दिल्‍ली हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं। इस समय कैलिफोर्निया अमेरिका में निवास कर रहे हैं। मार्कंंडेय काटजू जी का कथन है कि कोरोना लॉकडाउन पर लिया गया निर्णय जल्‍दबाजी का निर्णय साबित हुआ है इसे सरकार को अतिशीघ्र समाप्‍त कर देना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि लॉकडाउन के बिना हजारों भारतीयों की मौत हो सकती है परन्‍तु भुखमरी से लाखों लोग मरे तो ये निर्णय उचित नहीं लगता है। ये निर्णय विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने बडा उपाय माना है परन्‍तु हमारी परिस्थि‍तयॉ क्‍या है? ये देखना उचित होगा। मार्कंंडेय काटजू जी ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से 40-45 करोड लोग बुरी तरह से प्रभावित हो सकते हैं जो असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं और जो लोग दिहाडी मजदूर है अपने घर से दूर प्रवास करके कहीं रोजनदारी करके या नौकरी करके अपना जीवन काट रहे हैं उनके बारे में सोचे बिना जल्‍दबाजी में लिया हुआ फैसला है ये। 24 मार्च की शाम को देशव्‍यापी लॉकडाउन करने के लिये पहले इसकी समीक्षा कर लेनी चाहिए थी। उन्‍होंनेे कहा कि मेरा मानना है ये जल्‍दबाजी में लिया गया फैसला है। इस अतिशीघ्र विचार करना चाहिए।

82 करोड़ को भोजन नही मिला

आंकड़ों का वर्णन करते हुए जस्टिस काटजू ने बताने की कोशिश की है कि 2017 में 96 लाख लोग दुनियाभर में कैंसर से मर गए इसमे भारतीय बड़ी संख्या में शामिल थे। जस्टिस काटजू ने कहा कि 2018 में दुनियाभर में 82 करोड़ लोग भूखे सोए, इसमे अधिकांश लोग भारतीय थे। भारत में 5 वर्ष से कम उम्र के 48 फीसदी बच्चे कुपोषण का शिकार हैं। लिहाजा हम अनुमान लगा सकते हैं कि भारत में भुखमरी से मौत का क्या आंकड़ा हो सकता है ? उस पर भी जल्‍दबाजी मेें फैसला करना उचित नहीं होगा।

इसे भी पढे – https://www.satyamlive.com/micro-defense-on-the-battered-economy/

सरकार लॉकडाउन खत्म करे

लॉकडाउन के दुष्परिणाम के बारे में जस्टिस काटजू ने कहा कि लॉकडाउन से जीविका पर संकट मंडरा रहा है। परिणास्वरूप भूखमरी बड जायेगी, साथ ही कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। उन्होंने कहा कि पालघर में जो घटना हुई, उसे फिर से दोहराया जा सकता है। सम्‍पूर्ण देश में लोग कई मुश्किलो का सामना कर रहे हैं और दूूूूूसरे राज्यों में लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं। जस्टिस काटजू ने कहा कि सरकार को अपनी गलती मानकर लॉकडाउन को खत्म कर देना चाहिए, अन्यथा स्थित काफी गंभीर हो सकती है हलॉकि इस ट्वीट को कई लोगों ने मजाक में लिया है परन्‍तु सारे आकडे जो चेक किये जाये तो यही लगता है कि बात को गम्‍भीरता पूर्वक विचार करने योग्‍य है।

उपसम्‍पादक सुनील शुक्‍ल

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • लेबर अधिकारियों के इंस्‍पेक्‍शन में दिल्‍ली के शिक्षा मंत्री
    सत्‍यम् लाइव, 21 अक्‍टूबर 2020 दिल्‍ली।। दिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री एवं शिक्षामंत्री मनीष सिसाैै‍दिया जी ने कल स्‍वयं पुष्‍प विहार के डिस्ट्रिक्‍ट लेबर कार्यालय का सरप्राइज इंस्‍पेक्‍शन किया। साथ ही ट्वीट करके लिखा […]
  • स्‍वस्‍थ जीवन के लिये घातक रसायनिक खाद्य
    सत्‍यम् लाइव, 20 अक्‍टूबर, 2020, दिल्‍ली।। इस कोरोना काल में लोगों को एहसास दिला दिया है कि शुद्ध शाकाहारी, स्वस्थ भोजन करने से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को संतुलन करके ऐसे अनेको वायरस से बचा जा सकता है वैसे भी […]
  • श्रीरामवरदायनी माता सती का परीक्षा स्‍थल
    सत्‍यम् लाइव, 17 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। शरदीय नवरात्रि के शुभ अवसर माता सती द्वारा श्रीराम परीक्षा लेेने की कथा आप सबने सुनी होगी आज नवरात्रि के अवसर पर माता के उस स्‍थल का परिचय कराने का पुन: अवसर प्राप्‍त होता […]
  • कलाम को सलाम
    सत्‍यम् लाइव, 15 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम अंसार परिवार में इनका जन्म हुआ उनके पिता जैनुलाब्दीन मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। […]
  • ओडिशा-तेलंगाना में भारी बारिश से 15 मरे
    सत्‍यम् लाइव, 14 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। अभी भी बारिश का कहर रूका नहीं है एक तरफ कोरोना को लेकर 900 करोड रूपयेे विज्ञापन पर खर्चा किया जा रहा है तो दूसरी तरफ प्रकृति की विनााश लीला पूरी तरह से प्रारम्‍भ है। अभी […]
  • सोने पर सोना विवाद या प्रचार
    सत्‍यम् लाइव, 14 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। आज बदलते जमाने में सोच बदलने का प्रस्‍ताव बार बार दिया जाता है परन्‍तु भारतीय जनमानस अपनी सोच बदल नहीं सकता हैंं क्‍योंकि व्‍यक्ति चाहे जितने प्रयास कर ले, उसके अन्‍दर आने […]