Breaking News
prev next

हनुमान जयंती पर करें सुंदर कांड का पाठ

दिल्ली :  हनुमान जी की लीलाओं का गान है सुंदर कांड

अतुलित बलधामं, हेमशैलाभदेहं। दनुजवनकृशानुं, ज्ञानिनामग्रगण्यम्। सकलगुण निधानं, वानराणामधीशं। रघुपतिप्रिय भक्तं, वातजातं नमामि॥’अर्थात् अतुल बल के धाम, सोने के पर्वत (सुमेरु) के समान कांतियुक्त शरीर वाले, दैत्य रूपी वन (को ध्वंस करने) के लिए अग्नि रूप, ज्ञानियों में अग्रगण्य, संपूर्ण गुणों के निधान, वानरों के स्वामी, श्री रघुनाथ जी के प्रिय भक्त पवनपुत्र श्री हनुमानजी को मैं प्रणाम करता हूं। कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के अलावा चैत्र पूर्णिमा
को भी हनुमान जयंती मनाई जाती है, जो इस वर्ष 31 मार्च को है। भगवान शंकर के अवतार थे हनुमान। इनके पिता पवन केसरी और माता अंजना हैं।

दैहिक बल में नहीं, वरन मानसिक बल में भी।

हनुमान और राम भक्त गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा है- ‘रामदूत अतुलित बलधामा। अंजनीपुत्र पवनसुत नामा। महावीर विक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी॥’ सच्चे सेवक और निष्काम सेवा के सर्वोच्च उदाहरण हैं हनुमान जी। इनका जीवन निष्कलंक था। भगवान राम ने इन्हें लक्ष्मण से बढ़कर अपना अनन्य सेवक माना है।

 

सुंदर कांड, हनुमान जयंती पर करें सुंदर कांड का पाठ

हनुमान भक्तों को हनुमान जयंती व्रत के एक दिन पूर्व ही शाम को भोजन का त्याग कर देना चाहिए और पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए राम, सीता, लक्ष्मण और हनुमान नाम का सुमिरण कर जमीन पर ही सोना चाहिए। अगले दिन यानी हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी की मूर्ति पर सिंदूर चढ़ाते समय यह मंत्र पढ़ना चाहिए- ‘मनोजवं मारुततुल्यवेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं। वातात्मजं वानरयूथमुख्यं श्रीरामदूतं शरणं प्रपद्ये।।’भगवान शिव के ग्याहरवें रुद्र के रूप हनुमान, आज भी जहां रामचरित का गुणगान होता है, वहां मौजूद रहते हैं। इन्हें अणिमा, लघिमा, महिमा, गरिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व रूपी अष्ट-सिद्धियां प्राप्त थीं। हनुमान जी को लंका में देख कर सीता जी ने आशीर्वाद दिया था- ‘अजर अमर गुननिधि सुत होहू। करहुं बहुत रघुनायक छोहू॥’

हनुमत् पुराण में हनुमान जी का नाम सुंदर बताया गया है। बाल्मीकि रामायण और तुलसी कृत
रामचरितमानस में हनुमान जी की लीलाओं का गान सुंदर कांड में संभवत: इसीलिए किया गया है। इस दिन सुंदर कांड का पाठ जरूर करना चाहिए। हनुमान जी के 12 नाम – हनुमान, अंजनी सुत, वायु पुत्र, महाबल, रामेष्ठ, फाल्गुण सखा, पिंगाक्ष, अमित विक्रम, उदधिक्रमण, सीता शोक विनाशन, लक्ष्मण प्राणदाता, दशग्रीव दर्पहा सुमिरण करने से किसी भी प्रकार का संकट समाप्त हो जाता है। साथ ही भगवान राम की भक्ति भी प्राप्त होती है। मध्यप्रदेश के सतना जिले में स्थित विश्वप्रसिद्ध चित्रकूट धाम में हनुमान धारा, अयोध्या में हनुमान गढ़ी और बनारस में संकटमोचन मंदिर हुनमान जी के प्रसिद्ध मंदिर हैं।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • जिला गौतम बुध नगर सक्षम यूनिट का पुनर्गठन
    सत्यम लाइव 21 नवंबर 2020 गौतम बुध नगर जिला गौतम बुध नगर सक्षम की यूनिट का आज पुनर्गठन किया गया है जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर श्री राम कुमार मिश्रा जी राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व उत्तर क्षेत्र के प्रभारी व सक्षम […]
  • अब दिल्ली के लेबर का रजिस्ट्रेशन जरूरी
    सत्‍यम् लाइव, 19 नवम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। दिल्‍ली में अब लेबर का रजिस्‍ट्र्रेशन अब अनिवार्य हो गया है इसमें से सभी इलैक्‍ट्र्रीशियन, प्‍लेम्‍बर से लेकर सभी वो आयेगीं जो पल्‍ली इधर से उधर ले जाता हैै आप पूरा इसको […]
  • दिल्‍ली बाजार बन्‍द करने की अनुमति मॉगी.. केजरीवाल
      सत्‍यम् लाइव, 17 नवम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। दिल्‍ली बाजार को बन्‍द करने की अनुमति भारत सरकार से मॉगी गयी हैै अब जल्‍द ही कोरोना के संकट को देखते हुए, दिल्‍ली के बाजार को बन्‍द किया जा सकता है। मैं कुछ कहूू उससे […]
  • दिल्‍ली में 12 चरणों में होगा, कोरोना से बचाव
    सत्‍यम् लाइव, 17 नवम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और दिल्ली की मुख्‍यमंत्री केजरीवाल सहित कई बडे अधिकारियों ने दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर पर वर्त्‍ता की । केंद्रीय स्वास्थ्य […]
  • चुनाव के बाद फिर बढा रहा कोरोना
    सत्‍यम् लाइव, 17 नवम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। कल दिल्‍ली मेें, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्‍द्र केजरीवाल के बीच में मीटिंग करके कोरोना से निपटने की तैयारी पुन: प्रारम्‍भ कर दी। […]
  • गौमय बसती लक्ष्‍मी, गौमूूूूत्र धनवन्‍तरि … सौम्‍या पाण्‍डे
    सत्‍यम् लाइव, 15 नवम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। इस दीपावली के शुभ अवसर पर भारतीय नस्‍ल की गौ माता के बने उत्‍पादों को सभी ने स्‍वीकार किया। दीपों केे इस त्‍यौहार पर आदरणीया सौम्या पांडे जी (आईएएस) मुख्य विकास अधिकारी […]