Breaking News
prev next

मां कात्यायनी के छठवें नवरात्रि के दिन ऐसे करने पूजन

नौ रूपों में छठवां स्‍थान है

मां कात्यायनी नवदुर्गा या देवी शक्ति के नौ रूपों में छठवें रूप का नाम है। अमरकोष में इसे माता पार्वती के लिए दूसरा नाम माना जाता है, संस्कृत शब्दकोश में उमा, कात्यायनी, गौरी, काली, हैमावती, इस्वरी इन्हीं के अन्य नाम बताये गए हैं। शक्ति के आराधक के बीच माता कात्यायनी, शक्ति या दुर्गा, जिसमे भद्रकाली और चंडिका भी शामिल है, के रूप में भी प्रचलित हैं।

लाल रंग का महातम्‍य

परंपरागत रूप से मां कात्यायनी, देवी दुर्गा की तरह लाल रंग से जुड़ी हुई हैं। नौ दिन चलने वाले नवरात्रि उत्सव में षष्ठी के दिन में उनकी पूजा की जाती है। कहते हैं इस दिन साधक का मन आज्ञा चक्र में स्थित होता है। योगसाधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। इस चक्र में स्थित मन वाला साधक मां कात्यायनी के चरणों में अपना सर्वस्व निवेदित कर देता है। परिपूर्ण आत्मदान करने वाले ऐसे भक्तों को सहज भाव से मां के दर्शन भी प्राप्त हो सकते हैं।

पूजन का महत्‍व और विधान

जैसा कि जानते हैं नवरात्रि का छठा दिन मां कात्यायनी की उपासना का दिन होता है। माना जाता है कि इनके पूजन से भक्‍तों में शक्ति का संचार होता है और ये अपने आराधकों को दुश्मनों का संहार करने में ये सक्षम बनाती हैं। मां कात्‍यानी का ध्यान गोधुली बेला में करना सर्वोत्‍म होता है। इनकी पूजा के लिए आराधना दिया गया श्‍लोक पढ़ना चाहिए, और मां का आर्शिवाद पाने के लिए इसे कंठस्थ कर नवरात्रि में छठे दिन इसका जाप करना चाहिए।

इस श्‍लोक का करें पाठ

मां कात्‍यानी की पूजा के लिए इस श्‍लोक का पाठ करना चाहिए ‘या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:। इसका अर्थ है हे मां सर्वत्र विराजमान और शक्ति -रूपिणी प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं। कहते हैं जिन कन्याओ के विवाह मे विलम्ब हो रहा हो, उन्हे इस दिन माँ कात्यायनी की उपासना अवश्य करनी चाहिए, जिससे उन्हे मनोवान्छित वर की प्राप्ति होती है। विवाह के लिये कात्यायनी मन्त्र, ॐ कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरि, नंदगोपसुतम् देवि पतिम् मे कुरुते नम:। का जाप करना अच्‍छा होता है। ऐसी मान्‍यता है कि देवी कात्‍यानी को जो सच्चे मन से याद करता है उसके रोग, शोक, संताप, भय आदि सर्वथा नष्ट हो जाते हैं।

 

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]
  • अब एलआईसी की बारी
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। काफी समय से भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने की जो कवायद चल रही थी वो अब अंतिम चरण में आ चुकी है। यह तय हो गया है कि कुल 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। एलआईसी को बेचने के […]
  • भारतीय रेलवे जल्द ही करेगा भर्तियां
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। लाेेेकडाउन केे बाद आनलाक की प्र‍क्रिया के तहत सरकार एक एक कर के सरकारी क्षेत्राेे में खाली पदों कों भरने केे लिए, परीक्षाओं का दिशा निर्देश जारी कर रही है। इन्‍ही मेंं से […]
  • मेरठ प्रांत के नेत्रदान पखवाड़े के उपलक्ष्‍य में वेबीनार…
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर, 2020, दिल्‍ली।। आज दिनांक 6 सितंबर 2020 दिन रविवार को नेत्रदान पखवाड़े के उपलक्ष में सक्षम मेरठ प्रांत ने एक ई- संगोष्ठी का आयोजन किया। जिसकी अध्यक्षता श्री राम कुमार मिश्रा राष्ट्रीय […]
  • 5 सितम्‍बर, 5 मिनट, 5 बजे… बेरोजगार ने पीटी थाली
    सत्‍यम् लाइव, 6 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। सोशल मीडिया केे द्वारा लगातार शेयर की जा रही है जो तस्‍वीरें वो पहले कोरोना को लेकर जनता ने थाली पीटी थी परन्‍तु वक्‍त ने अपनी करवट लेे ली है तो अब 5 सितम्‍बर, 5 मिनट, 5 […]
  • बढेती बेरोजगारी पर एक नजर
    सत्‍यम् लाइव, 6 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। चरमराती अर्थव्‍यवस्‍था ने भारत में करोडों लोगों को बेरोजगार बनाया है और अभी जो दशा दिख रही है उससे तो साफ दिखाई दे रहा है कि करोडो लोग अभी बेरोजगार होने जा रहे हैं उसका कारण […]