Breaking News
prev next

भारी वायु प्रदूषण की चपेट में पूरी एनसीआर, घर में आंखें जल रहीं

नई दिल्ली। बच्चों को हम किस तरह का भयावह भविष्य दे रहे हैं, यह कहते हुए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने दिल्ली के ऊपर धुंध छाए रहने की पिछले 17 साल में सबसे बदतर स्थिति के बीच खतरनाक वायु प्रदूषण स्तर को नियंत्रण में करने के लिए कदम नहीं उठाने और केंद्र और दिल्ली सरकार द्वारा एक दूसरे पर ‘दोषारोपण’ करने को लेकर नाराजगी जाहिर की।

अधिकरण के अध्यक्ष स्वतंत्र कुमार ने कहा, ‘आपके लिए दिल्ली के लोग मायने नहीं रखते, लेकिन हमारे लिए वे मायने रखते हैं। हमसे जो कुछ भी बन पड़ेगा, हम करेंगे।’ साथ ही कहा, ‘जरा ये तो देखिए कि हम अपने बच्चों को कैसा भविष्य दे रहे हैं। यह खौफनाक है।’ हालात की तुलना ‘आपातकाल’ से करते हुए अधिकरण ने कहा कि केंद्र, दिल्ली सरकार और अन्य प्राधिकार को बढ़ते वायु प्रदूषण की तथा दिल्ली के लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्परिणाम की कोई परवाह नहीं है और एक दूसरे पर दोष मढ़ने का काम हो रहा है।

हालांकि, वायू प्रदूषण की यह स्थिति पूरे एनसीआर में नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुड़गांव आप कहीं चले जाइए आंखों में जलन और धुंए भरी सांस साफ पता चल रही है। हालत इस तरह से बदतर है कि घरों में भी आंखों में जलन हो रही है।

एनजीटा ने टिप्पणी करते हुए कि स्वास्थ्य ‘प्राथमिक चिंता की वजह है’, पीठ ने क्षोभ जताया कि 10 साल पुरानी डीजल गाडियों का चलन रोकने के लिए दिल्ली सरकार को दिए गए उसके आदेश को समुचित तरीके से लागू नहीं किया गया।

पीठ ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया, ‘10 साल से पुरानी सभी डीजल गाडियों को सड़क से हटाया जाना चाहिए।’ इस मुद्दे से किस तरह निपटा जाए इस सवाल पर केंद्र तथा दिल्ली सरकार से उचित जवाब नहीं मिलने पर पीठ ने नाराजगी जतायी।

माना जा रहा था कि कल एक बैठक में दिल्ली के मुख्य सचिव, केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड और पर्यावरण एवं वन मंत्रालय तथा अन्य के बीच इस संबंध में चर्चा की जानी थी।

पीठ ने कहा, ‘दुनिया में हम अपनी राजधानी को क्या नाम कर रहे हैं। यह बेहद दुखद है।’
सुनवाई के दौरान ‘अपना दामन साफ दूसरे का गंदा’ का खेल खेला जा रहा है। राजनीति बदलने के नाम पर सत्ता प्राप्त करने के बाद ‘दो कौड़ी’ की राजनीति में सबसे आगे व बढ़चढ़ कर भाग ले रही केजरीवाल सरकार वकील बस अपने बचाव के दलील दे रहे हैं। सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार के वकील ने पीठ से कहा कि पड़ोसी राज्यों हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में फसल अवशेष जलाने के कारण प्रदूषण का उच्च स्तर है ।

इस पर पीठ ने पलटकर कहा, ‘केवल फसल अवशेष जलाने के कारण यह नहीं है। दिल्ली में फसल अवशेष नहीं जलाया गया। आपके मुताबिक हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में फसल अवशेष जलाया गया लेकिन आजकल तो हवा भी नहीं बह रही इसलिए इन राज्यों से धुआं भी नहीं आ सकता।’
अधिकरण ने पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के पर्यावरण एवं शहरी विकास सचिवों को नोटिस जारी किये और उन्हें आठ नवंबर को सुनवाई के दौरान उपस्थित रहने का निर्देश दिया।” इसी तरह से मामले की निदान की जगह उसे उलझाया जा रहा है। ऑड-इवन में मुंह छुपाकर विज्ञापन करने वाले तथाकथित जनता के ‘सीएम’ केजरीवाल एनजीटी के पास जाने की हिम्मत नहीं कर रहे हैं। इस गंभीर मसले को भी उलझाकर समय निकालने का प्रयास सरकार की ओर से की जा रही है।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • लव जेहाद से जुड़े मामले को लेकर यूपी का बरेली जनपद मंगलवार को गरमाया ।
    सत्‍यम् लाइव, 22 अक्टूबर 2020, बरैली || लव जेहाद से जुड़े मामले को लेकर यूपी का बरेली जनपद मंगलवार को गरमा गया। लड़की की सकुशल बरामदगी व आरोपी पक्ष पर कार्रव ाई की मांग को लेकर भाजपा समेत कई हिन्दू संगठनों ने किला […]
  • लेबर अधिकारियों के इंस्‍पेक्‍शन में दिल्‍ली के शिक्षा मंत्री
    सत्‍यम् लाइव, 21 अक्‍टूबर 2020 दिल्‍ली।। दिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री एवं शिक्षामंत्री मनीष सिसाैै‍दिया जी ने कल स्‍वयं पुष्‍प विहार के डिस्ट्रिक्‍ट लेबर कार्यालय का सरप्राइज इंस्‍पेक्‍शन किया। साथ ही ट्वीट करके लिखा […]
  • स्‍वस्‍थ जीवन के लिये घातक रसायनिक खाद्य
    सत्‍यम् लाइव, 20 अक्‍टूबर, 2020, दिल्‍ली।। इस कोरोना काल में लोगों को एहसास दिला दिया है कि शुद्ध शाकाहारी, स्वस्थ भोजन करने से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को संतुलन करके ऐसे अनेको वायरस से बचा जा सकता है वैसे भी […]
  • श्रीरामवरदायनी माता सती का परीक्षा स्‍थल
    सत्‍यम् लाइव, 17 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। शरदीय नवरात्रि के शुभ अवसर माता सती द्वारा श्रीराम परीक्षा लेेने की कथा आप सबने सुनी होगी आज नवरात्रि के अवसर पर माता के उस स्‍थल का परिचय कराने का पुन: अवसर प्राप्‍त होता […]
  • कलाम को सलाम
    सत्‍यम् लाइव, 15 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम अंसार परिवार में इनका जन्म हुआ उनके पिता जैनुलाब्दीन मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। […]
  • ओडिशा-तेलंगाना में भारी बारिश से 15 मरे
    सत्‍यम् लाइव, 14 अक्‍टूबर 2020, दिल्‍ली।। अभी भी बारिश का कहर रूका नहीं है एक तरफ कोरोना को लेकर 900 करोड रूपयेे विज्ञापन पर खर्चा किया जा रहा है तो दूसरी तरफ प्रकृति की विनााश लीला पूरी तरह से प्रारम्‍भ है। अभी […]