Breaking News
prev next

प्रेग्‍नेंसी में नही करना चाहिए अधिक चीनी का सेवन

नई दिल्ली: ये एक जरुरी बात हे जो आपको जाननी जरुरी है कि जो महिलाएं गर्भावस्‍था के दौरान चीनी का बहुत ज्‍यादा प्रयोग करती है वो सावधान हो जाएं, उनका ऐसा करना उनके बच्‍चे में अस्‍थमा बीमारी का कारण बन सकता है. इससे उनके बच्‍चे को एलर्जी और अस्‍थमा होने का खतरा बढ़ जाता है, ऐसा हाल ही में हुए एक अध्‍ययन से पता चला है.

मेरी 2 बेटियां हैं. मेरी सास हमेशा मुझे ताना देती रहती हैं. इसलिए मैं चाहती हूं कि एक चांस और ले लूं. शायद बेटा हो जाए. मैं क्या करूं.
शोधकर्ताओं के निष्कर्षों से पता चला है कि जो महिलाएं अपने खाने में ज्‍यादा मीठी चीजों का सेवन करती है और मीठे पेयपदार्थ आदि का सेवन करती हैं उनकी संतान में अस्‍थमा का खतरा काफी बढ़ जाता है. 73 प्रतिशत बच्‍चों में ये बीमारी जाये जाने का प्रमुख कारण सही था.

ऐसा होने के पीछे की वजह भी शोधकर्ताओं ने साफ की है, उनके अनुसार ऐसा मां के द्वारा लिए जाने वाले फ्रक्‍टोस की मात्रा के कारण होता है जिससे उनके बच्‍चे की इम्‍यून क्षमता प्रभावित होती है और उसमें एलर्जी और अस्‍थमा पनपने लग जाती है. ऐसा फेफड़ों के विकास होने के दौरान सबसे ज्‍यादा होता है. महत्‍वपूर्ण बात यह है कि बचपन में बच्‍चों को दी जाने वाली चीनी या मिठाई से इसका कोई लेना देना नहीं होता है.

एक अध्‍ययन के तहत मां और बच्‍चे के बीच के संबंध को बारीकी से देखा गया कि मां के मीठा खाने पर बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य पर क्‍या प्रभाव पड़ा. 7 से 9 उम्र की अवस्‍था में उनके फेफड़ों ने कैसे काम करना शुरू किया.

यह पाया गया कि इससे बच्‍चों में एलर्जी रिनिटस, अस्‍थमा और खुजली आदि भी हुई. हालांकि बुखार और खुजली को लेकर कोई ठोस निष्‍कर्ष नहीं निकाले गए हैं. पर यहां एक बात औऱ है कि इस बारे में केवल इन टिप्पणियों के आधार पर आप ये नहीं कह सकते हैं कि गर्भावस्था में मां द्वारा चीनी का उच्च सेवन निश्चित रूप से बच्‍चे में एलर्जी और एलर्जी अस्थमा पैदा कर रहा है, परन्‍तु, मां को चीनी का उच्‍च सेवन करने से बचना चाहिए, ये उनके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए ठीक रहता है. इस बारे मे आगे भी कई अध्‍ययन और शोध चल रहे हैं.

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • कलयुगी गंगाजल है सैनेटाइजर
    अपनी संस्‍कृृ‍ति और सभ्‍यता को पहचानने के लिये पहले भगवान और गंगाजल को गंगा मॉ समझना जरूरी है। सत्‍यम् लाइव, 13 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। भारतीय शास्‍त्रों में गंगाजल की महत्‍ता इतनी वयां की गयी है कि मुस्लिम शासक […]
  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]