Breaking News
prev next

पेश हुई एक मिसाल

बहुत ही खास रही इस बार की होली। खास इस अर्थ में कि होली के आपसी भाईचारे और प्रेम के संदेश को हिंदुओं और मुस्लिमों, दोनों ने ही बखूबी आत्मसात किया। वे पर्याप्त सहिष्णु बने रहे और हर हाल में एक-दूसरे की भावनाओं का ख्याल रखा। कहीं से भी ऐसी कोई खबर नहीं आई कि त्योहार का मजा किरकिरा हो जाए। दरअसल शुक्रवार को दुलहैंडी (छरड़ी) पड़ी थी। दोपहर के जिस वक्त नमाजी जन मस्जिदों की ओर प्रस्थान करते हैं, वही वक्त रंग खेलने का भी होता है। ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों को चिंता थी कि कहीं जबरन रंग डालने का कोई मामला सामने न आ जाए और बेमतलब ही तनाव व्याप्त हो जाए। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।

पूरे देश में जितनी शालीनता से होली का त्योहार मना, उतनी ही शांति से जुमे की नमाज भी अता की गई। सामाजिक सौहार्द्र की जैसे एक मिसाल ही पेश हो गई। तमाम आशंकाएं बेबुनियाद साबित हुईं। तसल्ली हुई कि एक-दूसरे की भावनाओं की कद्र करनेवालों की कोई कमी नहीं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपील ने भी शांतिपूर्ण माहौल बनाने में मदद की। उन्होंने अनुरोध किया था कि अगर कोई होली नहीं खेलना चाहता है, तो उस पर जबरन रंग न डाला जाए। उसकी भावनाओं की कद्र की जाए। सचमुच लोगों ने होली की मूल भावना को समझा और पूर्णत: शालीन व्यवहार किया। कहीं कोई गड़बड़ी नहीं हुई। असल में होली का त्योहार जितना मस्तीभरा है, उतना ही परस्पर प्यार-मोहब्बत का परिचायक भी है। सदियों से यह त्योहार लोगों के भीतर प्रेम की भावनाएं भरता रहा है और सभी धर्मों के बीच लोकप्रिय रहा है।

देखिए कि लगभग ढाई सदी पहले शायर नजीर अकबराबादी ने होली के महत्व का किस तरह बखान किया है। उन्होंने होली महत्व कुछ इस तरह सामने रखा है: ‘जब फागुन रंग झमकते हों, तब देख बहारें होली की, और डफ से शोर खड़कते हों, तब देख बहारें होली की…।’ दरअसल हमारे देश में विभिन्न धर्मों के विभिन्न त्योहार सभी जन मिलकर मनाते रहे हैं। एक साझी संस्कृति सदियों से हमारी विरासत रही है। सभी धर्मों के लोग एक-दूसरे की भावनाओं को समझते रहे हैं। एक-दूसरे के सुख-दुख में साथ खड़े रहे हैं। वैचारिक उदारता ही तो हमारी निधि रही है। इसी से एक सहिष्णु समाज की नींव पड़ी है और एक आपसी समझदारी विकसित हुई है। हां, कई बार हमारे सामाजिक ताने-बाने को चोट पहुंचाने की कोशिशें जरूर की गईं। परंतु हर बार साबित हुआ है कि हमारा समाज मूल रूप से सहिष्णु है और समरसता का हिमायती है।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • कानपुर में अंधाधुंध फायरिंग में, डीएसपी सहित 8 पुलिस कर्मी शहीद
    सत्‍यम् लाइव, 3 जुलाई 2020, दिल्‍ली।। कल कानपुर के बिठुर इलाके में वर्ष 2001 में शिवली थाने के अन्‍दर, भारतीय जनता पार्टी के राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की हत्या में नामजद रह चुके हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे चौबेपुर […]
  • लगातार भूकम्‍प, फिर कम्‍पन
    सत्‍यम् लाइव, 1 जुलाई 2020, दिल्‍ली।। जम्मू कश्मीर में मंगलवार की रात्रि 11.32 बजे फिर 4.6 की तीव्रता से भूकंप आया। जिसका केंद्र पांच किलोमीटर की गहराई में स्थित था। इसमें जानमाल के नुकसान की तत्काल कोई सूचना नहीं […]
  • करोड़ों स्टूडेंट्स को लैपटॉप, टैबलेट, मोबाइल, टीवी देने का प्रस्‍ताव ……
    सत्‍यम् लाइव, 1 जुलाई 2020, दिल्‍ली।। डिजिटल एजुकेशन की लगातार चली आ रही बात को अब पूरा कोरोना वायरस ने करा ही दिया है इस महामारी केे दौरान पहली बार छोटे से लेकर बडे विद्यार्थी को ऑनलाइन पढाने या खेल खिलाने […]
  • अध्यक्ष ने किया, एसएचओ का स्वागत
    सत्‍यम् लाइव, 1 जुलाई 2020, दिल्‍ली।। लगभग 20 दिन के बाद SHO अपने थाना भलस्वा डेरी पहुंचे । SHO अजय कुमार सिंह को, कोरोना हो गया था। आज लगभग 20 दिन के बाद वह अपने थाने आए । भोजपुरी सेवा समिति के अध्यक्ष मनोज सिंह व […]
  • एक राशन-कार्ड की व्यवस्था .. प्रधानमंत्री
    सत्‍यम् लाइव, 30 जून, 2020, दिल्‍ली।। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन की शुरुआत में कहा कि कोरोना के संकटकाल में भारत की स्थिति काफी बेहतर है लेकिन आज जब हमें ज्यादा सतर्कता की जरूरत है तो […]
  • नया वायरस G4 EA H1N1 घातक हो सकता है।
    सत्‍यम् लाइव, 30 जून, 2020, दिल्‍ली।। चीन के पेइचिंग के वैज्ञानिकों ने एक नये नस्‍ल का फ्लू क लक्षण सुअर के अन्‍दर पाया गया है जो कोरोना वायरस की तरह ही महामारी का रूप धारण कर लेता है। शोधकर्ताओं को डर सता रहा है […]