Breaking News
prev next

जानिए 2018 की होली का शुभ मुहुर्त कब है और पूजा कैसे करे

आप सब जानते है होली आने वाली है होली की तैयारीया शुरू हो चुकी है . बरसाना में लट्ठमार होली का आयोजन भी आज से शुरू हो गया है. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि 2018 में होली पूजन का शुभ मुर्हुत क्या है. होली पूजन कैसे करें और होलिका दहन के वक्त क्या सावधानियां बरतें.

होलिका दहन
हिंदू पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास की पूर्णिमा के एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है. इस दिन को छोटी होली भी कहा जाता है. इस साल 1 मार्च को होलिका दहन किया जाएगा और 2 मार्च को रंगों से होली खेली जाएगी.

कब करें होलिका दहन-
ऐसा कहा जाता है कि भद्रा काल में होलिका दहन नहीं होना चाहिए इसे अशुभ माना जाता है. ये भी कहा जाता है कि होलिका दहन फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि में ही होना चाहिए. इस साल 1 मार्च को शाम 7 बजकर 47 मिनट से भद्रा काल समाप्त हो रहा है. वहीं पूर्णिमा तिथि 1 मार्च को 8 बजकर मिनट पर शुरू हो रही है. अधिक लाभ के लिए पूर्णिमा तिथि पर होलिका दहन करें. अन्यथा भद्रा काल की समाप्ति पर भी होलिका दहन किया जा सकता है.

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, होलिका दहन उस समय सबसे शुभ माना जाता है जब पूर्णिमा तिथि हो, प्रदोष काल हो और भद्रा काल समाप्त हो गया हो. संयोग से इस इस बार ये तीनों चीजें एक साथ हो रही हैं. यानि इस बार होलिका दहन का मुहुर्त बहुत शुभ है.

होलिका दहन का महत्व
धुलण्डी यानि रंगोंत्साव से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है. होलिका दहन अच्छाई की जीत का प्रतीक है. होलिका दहन के पीछे भी एक पुराणिक कथा प्रचलित है. कथानुसार, प्राचीन काल में हिरण्यकश्यप नाम का एक अत्यंत बलशाली असुर था. अपने बल के दम पर वह खुद को ही ईश्वर मानने लगा था. उसने अपने राज्य में ईश्वर का नाम लेने पर ही पाबंदी लगा दी थी. हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद ईश्वर भक्त था. प्रह्लाद की ईश्वर भक्ति से क्रुद्ध होकर हिरण्यकश्यप ने उसे अनेक कठोर दंड दिए, परंतु उसने ईश्वर की भक्ति का मार्ग न छोड़ा. हिरण्यकश्यप की बहन होलिका को वरदान प्राप्त था कि वह आग में भस्म नहीं हो सकती. हिरण्यकश्यप ने आदेश दिया कि होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठे. आग में बैठने पर होलिका तो जल गई, पर प्रह्लाद बच गया. ईश्वर भक्त प्रह्लाद की याद में इस दिन होली जलाई जाती है.

होलिका पूजन की सामग्री
कई जगहों पर होलिका की पूजा के लिए होलिका और प्रहलाद की प्रतिमाएं बनाई जाती हैं. इसके अलावा पूजा सामग्री में रोली, फूलों की माला और फूल, कच्चा सूत, गुड़, साबुत हल्दी, बताशे, गुलाल, मूंग, नारियल, पांच या सात तरह के व्यंजन, फसलों की बालियां, जौ या गेहूं और साथ में एक लोटा पानी रखा जाता है. इसके साथ ही मिठाईयां, फल आदि भी पूजा के दौरान चढ़ाए जाते हैं.

कैसे की जाती है होलिका की पूजा
कई मान्यताओं के अनुसार, होलिका दहन से पहले होलिका की विधिवत पूजा की जाती है. पूजा करते समय पूर्व या उत्तर दि‍शा की ओर मुंह करना चाहिए. होलिका की पूजा के दौरान होलिका के चारों ओर सात परिक्रमा करते हुए कच्चा सूत होलिका पर बांधा जाता है. हर परिक्रमा पर पूजा सामग्री चढ़ाई जाती और जल दिया जाता है. सातवीं परिक्रमा पर सारी पूजा सामग्री होलिका को अर्पित की जाती है और फिर जल दिया जाता है. महिलाएं इस दिन व्रत करती हैं. होलिका पूजन दिन के समय यानि 4 बजे से पहले कर लिया जाता है.

क्यों भूने जाते हैं जौ-
उत्तर भारत में खासतौर पर होलिका दहन के दौरान जौ को आग में भूनने का चलन है. लोग जौ भूनकर अपने परिवार और आसपास के लोगों को बांटते हैं. लोग जौ भूनकर अपने जीवन में सुख और शांति की प्रार्थना करते हैं. ऐसा माना जाता है कि आग में जौ जलाने से जीवन की सभी समस्याएं नष्ट हो जाती है और जिंदगी में पॉजिटिव एनर्जी आती है. होलिका दहन के बाद सभी को तिलक लगाकर प्रसाद दिया जाता है.

होलिका की राख-
मान्यताओं के अनुसार, होलिका दहन के बाद इसकी राख को घर के चारों ओर छिड़कने घर में नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है.

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]
  • अब एलआईसी की बारी
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। काफी समय से भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने की जो कवायद चल रही थी वो अब अंतिम चरण में आ चुकी है। यह तय हो गया है कि कुल 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। एलआईसी को बेचने के […]