Breaking News
prev next

जानिए: पान खाने के फायदे

दिल्ली: समारोह में भोज पान के बिना अधूरा है। वहीं कई जगहों पर लोग पान नियमित रूप में खाते हैं। ज्यादतर लोग स्वाद के लिए पान खाते हैं। लेकिन पान खाने के फायदे भी हैं

पान में अल्प मात्रा में कपूर की मात्रा के साथ तीन-चार बार चबाने से पायरिया दूर होता है। लेकिन पान की पीक पेट में नहीं जाना चाहिए।

खांसी आने पर पान में अजवाइन डालकर चबाने से लाभ होता है।

किडनी खराब होने पर पान का सेवन करना लाभकारी होता है।

चोट पर पान को गर्म करके बांध लेना चाहिए। इससे दर्द में आराम मिलता है।

जले पर पान लगाने से भी फायदा मिलता है।

छाले पड़ने पर पान के रस को देशी घी से लगाने पर प्रयोग करने से फायदा होता है।

 

 

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • हिन्‍दी की सच्‍चाई- हिन्‍दी दिवस पर
    सत्यम् लाइव, 14 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को मनाया जाता है। वर्ष 1918 में गॉधी जी ने हिन्‍दी साहित्‍य सम्‍मेेेेलन में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने को कहा था। […]
  • दिल्ली में, खुलेंगे जिम और योग सेंटर
    सत्‍यम् लाइव, 14 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। दिल्ली सरकार ने जिम और योग सेंटर खोलने की मंजूरी सोमवार से दे दी है। जबकि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने बैठक में साप्‍ताहिक बाजार को 30 सितंबर तक चलाने की मंजूरी भी दी […]
  • कलयुगी गंगाजल है सैनेटाइजर
    अपनी संस्‍कृृ‍ति और सभ्‍यता को पहचानने के लिये पहले भगवान और गंगाजल को गंगा मॉ समझना जरूरी है। सत्‍यम् लाइव, 13 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। भारतीय शास्‍त्रों में गंगाजल की महत्‍ता इतनी वयां की गयी है कि मुस्लिम शासक […]
  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]