Breaking News
prev next

टकराव का खेल

भारत में क्रिकेट के क्षेत्र में सुधार के मसले पर गठित लोढ़ा समिति और बीसीसीआइ यानी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के बीच जिस तरह का टकराव खड़ा हुआ है, उसका हल चाहे जो निकले, लेकिन इससे इतना साफ है कि संभवत: पारदर्शिता के अभाव में पैसे को लेकर कई तरह की उलझनें बनी हुई हैं। चूंकि खेल से लेकर क्रिकेट संघों तक के मामले में व्यापक गड़बड़ियों की शिकायतें आती रही हैं, इसलिए पैसे की कमी और उससे उपजे विवाद भी अस्वाभाविक नहीं हैं। अगर किन्हीं हालात में लोढ़ा समिति ने बैंकों को पत्र लिख कर राज्य संघों को बड़ी धनराशि का भुगतान करने रोक लगाने की घोषणा की है, तो यह समूचे मामले के एक गंभीर स्थिति में पहुंच जाने का ही संकेत है। गौरतलब है कि धनराशि के वितरण के संबंध में लोढ़ा समिति और सुप्रीम कोर्ट ने भी तीस सितंबर तक एक नीति तैयार करने का निर्देश दिया था।

बीसीसीआइ ने न सिर्फ इस समय-सीमा का खयाल रखना जरूरी नहीं समझा, बल्कि समिति के मुताबिक अपनी सुविधा से उसका उल्लंघन भी किया। बीसीसीआइ के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने पैसों के अभाव में भारत और न्यूजीलैंड के बीच शृंखला के जारी रहने को लेकर अनिश्चितता जाहिर कर दी। लोढ़ा समिति का कहना है कि उसने बीसीसीआइ के खातों पर रोक नहीं लगाई है, बल्कि उसे निर्देश दिए हैं कि वह राज्य संघों को धनराशि का भुगतान न करे; दैनिक कार्य, मैच चलते रहने चाहिए। अनुराग ठाकुर का यह कहना सही हो सकता है कि पैसे के बिना खेल को नहीं चलाया जा सकता, लेकिन सवाल है कि क्या बीसीसीआइ को मनमाने तरीके से पैसे खर्च करने की छूट है!

दरअसल, यह मामला लोढ़ा समिति की सिफारिशों और उन पर अमल के सवाल पर उपजे विवाद के साथ शुरू हुआ। अपनी सिफारिशों में समिति ने बीसीसीआइ में पारदर्शिता लाने के मकसद से उसे सूचनाधिकार कानून के दायरे में लाने से लेकर बोर्ड में पदाधिकारियों की योग्यता से संबंधित मानदंड बनाने और खिलाड़ियों का अपना एसोसिएशन बनाने जैसे कई सुझाव दिए थे। सुप्रीम कोर्ट ने तकरीबन सभी सिफारिशों को स्वीकार कर लिया था। मगर उस पर बीसीआइ का रुख सकारात्मक नहीं रहा। यहां तक कहा गया कि अगर इन सिफारिशों को स्वीकार कर लिया जाए तो भारतीय क्रिकेट बहुत पीछे चला जाएगा। यह विचित्र है कि जिन सिफारिशों को देश के क्रिकेट परिदृश्य में फैले भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिहाज से ठोस सुझाव माना गया, उन्हें लेकर ऐसी प्रतिक्रियाएं भी सामने आर्इं। जबकि यह जगजाहिर है कि जब से भारतीय क्रिकेट में धन का बोलबाला बढ़ा है, यह खेल कम और बाजार के तमाशे में ज्यादा तब्दील होता गया है, जो पूरी तरह पैसे के अकूत प्रवाह पर निर्भर है। इसी के मद्देनजर क्रिकेट से जुड़े संगठनों और राज्य संघों पर कब्जा जमाए बैठे राजनीतिक और रसूख वाले लोग इसे छोेड़ना नहीं चाहते। छिपी बात नहीं है कि अलग-अलग राज्य क्रिकेट संघों से लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड तक में जो लोग काबिज रहे, वे इस खेल को बढ़ावा देने के बजाय किस तरह निजी स्वार्थ साधने में लगे रहे। हालांकि समय-समय पर ऐसे सवाल भी उठते रहे कि अगर क्रिकेट संघों पर कब्जेदारी की होड़ इसी तरह चलती रही तो इस खेल की शक्ल क्या बचेगी! लेकिन तमाम सवालों और सुझावों के बावजूद तस्वीर में कोई खास बदलाव नहीं आ सका है।

योगेश कश्यप
संपादक-सत्यम् लाइव

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • कलयुगी गंगाजल है सैनेटाइजर
    अपनी संस्‍कृृ‍ति और सभ्‍यता को पहचानने के लिये पहले भगवान और गंगाजल को गंगा मॉ समझना जरूरी है। सत्‍यम् लाइव, 13 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। भारतीय शास्‍त्रों में गंगाजल की महत्‍ता इतनी वयां की गयी है कि मुस्लिम शासक […]
  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]