Trending News
prev next

खाते वक्त इन बातों का रखें ध्यान

नई दिल्ली: इतने सालों तक आपने विभिन्न आहार नियम और क्या सही है व क्या नहीं, क्या खाना ठीक होता है क्या नहीं, इस पर बहुत कुछ पढ़ा है और बहुत सी बातें की है. पर आज भी आप या हम में से कोई भी यह नहीं कह सकता कि कौन सा डाइट रुटीन वाकई उचित और लाभकारी है. आज हम बात करेंगे आपकी डाइट को लेकर, भोजन संबंधी कुछ नए दिशा निर्देश और नियमों की जो वास्तव में आपको, आपके लक्ष्य तक पहुँचने में मदद करेगा..

भोजन करने से पहले :

दोनों हाथ और पैरों को अच्छी तरह से धोकर ही खाना खाने बैठना चाहिए. वैसे ऐसा जरूरी नहीं पर प्रयास यही करना चाहिए कि भोजन, किचन में बैठकर परिवार के सभी सदस्यों के साथ मिलकर हो.

भोजन का समय :

ऐसा माना जाता है कि पाचनक्रिया सूर्योदय से 2 घंटे बाद तक एवं सूर्यास्त से 2.30 घंटे पहले तक अच्छी होती है, इसीलिए समयानुसार खाना खा लेना चाहिए.

ऐसे में न करें भोजन :

खड़े-खड़े और लेट कर कभी खाना नहीं खाना चाहिए. आराम से बैठकर भोजन करना, शरीर और स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है. लैपटॉप, फोन आदि चलाते समय खाना नहीं खाना चाहिए.

ऐसा भोजन न करें :

बहुत तीखा, बहुत मीठा या तेज मिर्च मसाले वाला खाना नहीं खाना चाहिए. आधा खाया हुआ फल, मिठाइयां आदि फिर नहीं खाना चाहिए.

खाना खाते समय, खाना कभी भी बीच में छोड़कर नहीं उठना चाहिए.

खाना खाते वक्त क्या करें :

मौन रहें.

भोजन को अच्छे से चबा-चबाकर खाएं.

अगर आपक बोलना वाकई बहुत जरूरी हो तो, खाते वक्त सिर्फ सकारात्मक बातें ही करें. प्रसन्न मन से किया गया भोजन शरीर को जल्दी लगता है.

किसी भी प्रकार की समस्या पर चर्चा, खाना खाने वक्त नहीं करनी चाहिए.

भोजन के बाद :

खाने के तुरंत बाद पानी या चाय नहीं पीना चाहिए.

घुड़सवारी करना, दौड़ना आदि मेहनत के काम, खाना खाने के बाद करने से आपकी सेहत को नुकसान हो सकता है.

दिन में और रात में खाना खाने के बाद टहलना चाहिए. रात में भी टहलकर बाईं करवट लेट कर सोने से पाचन अच्छा होता है. खाने के एक घंटे बाद मीठा दूध एवं फल खाने से भी भोजन का पाचन अच्छा होता है .

क्या क्या है हानिकारक :

रात को दही, सत्तू, तिल जैसा भोजन नहीं करना चाहिए.

दूध के साथ नमक, दही, खट्टे पदार्थ, मछली, कटहल का सेवन नहीं करना चाहिए.

इसके अलावा शहद व घी को एक साथ, एक समान मात्रा में लेकर खाने के साथ नहीं खाना चाहिए.

दूध और खीर के साथ खिचड़ी नहीं खाना चाहिए.

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • मुकुंदपुर में हार्डवेयर कारोबारी पर हमले में तीन गिरफ्तारिया …
    सत्‍यम् लाइव, दिल्ली || मुकंदपुर इलाके में सोमवार देर रात हार्डवेयर कारोबारी फतेह सिंह उर्फ सोनू सिसोदिया पर जानलेवा हमले में तीन हमलावरों को गिरफ्तार किया गया है उनकी पहचान मुकेश बोना, राहुल लक्कड़ व विक्की के रूप […]
  • भारतीय पुनर्वास परिषद के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का …
    सत्यम लाइव, काशीपुर: आज दिनांक 7:10 2019 को उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में भारतीय पुनर्वास परिषद नई दिल्ली के संयुक्त प्रयास से सियारी सतत शिक्षा पुनर्वास कार्यक्रम का समापन किया गया जिसमें विशेष शिक्षा से […]
  • नवदुर्गा या नव आयुर्वेद
    आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन का ज्ञान’ और यही संक्षेप में आयुर्वेद का सार है।हिताहितं सुखं […]
  • घरेलू भोज्‍य, दो मिनट में तैयार
    सत्‍यम् लाइव, कानपुर: भारतीय संस्‍कृृ‍ति की ”अतिथि देवोभव” जैसी परम्‍परा अब समाप्‍त सी होती जा रही है। ये कहने की आवश्‍यकता नहीं है कि पूूूरेे विश्‍व में भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जो जहाॅॅ की नारी को […]
  • पहली बार सुभाष चन्‍द्रबोस ने कहा था राष्‍ट्रपिता
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: मोहनदास करमचन्द गांधी  (2 अक्‍टूबर 1889- 30 जनवरी 1948) भारतीय स्‍वातंत्ररता आन्‍दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्‍याग्रह (सविनय अवज्ञा) के प्रतिकार के अग्रणी […]
  • न भूतो न भविष्‍यति ….. सुनील शुक्‍ल
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: 2 अक्‍टूूूूबर को भारत में दो महान पुरूष ने जन्‍म लिया है एक थे महात्‍मा गॉधी (2 अक्‍टूबर 1869 – 30 जनवरी 1949) तथा दूूूसरे न भूतो न भविष्‍यति भारत के द्वितीय प्रधानमंंत्री लालबहादुर […]
  • स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक राजीव दीक्षित
    सत्‍यम् लाइव, दिल्‍ली: स्‍वास्‍थ्‍य कथा के प्रचारक इलेक्‍ट्र्राा‍निक्‍स एण्‍ड कम्‍युनिकेेेेेशन से आईआईटी करने के बाद भारत के कई पुुराने विषयों पर शोध कार्य करने वाले को आज महर्षि राजीव दीक्षित के नाम से जाना जाता […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


nine − 5 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.