Breaking News
prev next

कुछ ऐसे ग्रह जिस की वजह से आती है लड़की के विवाह में बाधा

नई दिल्ली: जब भी किसी घर में बेटी का जन्म होता है, तभी से उसके माता-पिता उसके विवाह के विषय को लेकर चिंतित होने लगते हैं। हर मां-बाप चाहते हैं कि वो अपनी बेटी का हाथ एक एेसे हाथ में दें, जहां उसे उतना ही लाड़-प्यार के मिले, जितना उसे उसके मां-बाप के घर मिलता है। इसलिए लड़की के यौवन अवस्था में पहुंचते ही उसके माता-पिता उसके लिए एक अच्छे वर की तलाश में लग जाते हैं। परंतु कई बार उनकी यह तलाश खत्म नहीं हो पाती क्योंकि उन्हें लड़के तो पसंद आते हैं लेकिन बहुत बार बात पक्की होते-होते रह जाती है या उसमें कोई न कोई रुकावट आ जाती है, जिसके कारण लड़की के विवाह में देरी होने लगती है और यह देरी ही उसके माता-पिता की परेशानी का कारण बन जाता है। क्योंकि वह इसका असल कारण समझ ही नहीं पाते कि आख़िर विवाह में देरी क्यों हो रही है।

असल में इस का कारण लड़की की कुंडली में चल रहे ग्रहों की चाल भी हो सकती है। क्योंकि ग्रहों की चाल इंसान के जीवन में घटित होने वाली प्रत्येक घटना के लिए उत्तरदायी होती है। यदि ग्रहों की चाल अनुकूल न हों तो व्यक्ति को जीवन में बहुत सी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है और कन्या की शादी में देरी होना भी उन्हीं में से एक होता है। यदि कन्या की कुंडली में बृहस्पति कमज़ोर हो तो उसके शादी में देरी होती है और काम बनते-बनते रह जाता है। क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरु ग्रह शादी-विवाह, संतान आदि सुखों का ग्रह होता है, लेकिन जब यही ग्रह कन्या की कुंडली में कमज़ोर हो तो इन सभी सुखों में देरी होने लगती है। तो यदि आपकी बेटी की शादी न हो पाने का कारण भी उसके कुंडली में चल रहे ग्रह हैं तो नीचे दिए गए उपाय आपकी बेटी की शादी में आने वाली बाधाओं को खत्म करने में मददगार साबित हो सकते हैं।

बेटी की शादी जल्दी करने के उपाय

जिस कन्या का विवाह नहीं हो रहा हो वह अपने नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी मिलाकर रोज़ाना स्नान करें। इस उपाय से विवाह के योग बनने लगेंगे।

विवाह योग्य कन्या को अपने पास केवल नए कपड़े रखने चाहिए। इससे विवाह जल्दी होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

पुत्री का विवाह नहीं होने पर तीन गुरुवार तक लगातार शाम को पांच तरह की मीठे व्यंजन, हरी इलायची की जोड़ी के साथ केले के पेड़ को जल चढ़ाना चाहिए और शुद्ध घी का दीया भी जलाना चाहिए। इसे जल्दी शादी के योग बन जाते है।

गुरुवार के दिन गौ माता को हरा चारा खिलाने से भी लड़की का विवाह शीघ्र होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

अगर शादी में बार-बार रुकावटें आ रही है तो सोमवार को साढ़े बारह ग्राम पीली दाल और सवा लीटर कच्चा दूध दान करना चाहिए।

गुरुवार के दिन व्रत रखने और बृहस्पति देव का पूजन करने से विवाह जल्दी हो जाता है।

लड़की की शादी में देरी होने पर लड़की को गुरुवार के दिन केले के वृक्ष का पूजन करना चाहिए और इस दिन केले नहीं खाने चाहिए। शादी के मार्ग प्रशस्त हो जाते है।

विवाह योग्य होने के बाद भी यदि पुत्री का विवाह नहीं हो रहा है तो इसके लिए हर सोमवार को शिवलिंग पर जल चढ़ाना चाहिए और ॐ नमः शिवाय का जाप करना चाहिए। इससे विवाह में आने वाली सभी रुकावटें दूर हो जाती है।

पूर्णिमा की रात को बरगद के पेड़ के चारों तरफ 108 चक्कर लगाने से शादी में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाती है।

शादी नहीं होने पर लड़की को शुक्रवार के दिन सफ़ेद और गुरुवार के दिन पीले कपड़े पहनने चाहिए। इसे शादी में आने वाली बाधाएं दूर होती है और शादी जल्दी होती है।

गुरुवार को भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी जी के मंदिर में जाकर विष्णु जी को सेहरे पर लगाई जाने वाली कलगी चढ़ाएं और साथ में पांच बेसन के लड्डू चढ़ाएं। इससे जल्द शादी होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • कलयुगी गंगाजल है सैनेटाइजर
    अपनी संस्‍कृृ‍ति और सभ्‍यता को पहचानने के लिये पहले भगवान और गंगाजल को गंगा मॉ समझना जरूरी है। सत्‍यम् लाइव, 13 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। भारतीय शास्‍त्रों में गंगाजल की महत्‍ता इतनी वयां की गयी है कि मुस्लिम शासक […]
  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]