Breaking News
prev next

उदास और दुखी रहने से हो सकती है ये बीमारियां

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास अपनों के लिए वक्त कहां हैं? लोग पैसे कमाने की धुन में इस कदर मशगुल हैं कि अपनी हर खुशी को नजरअंदाज कर जाते हैं. फिर एक समय ऐसा आता है जब काम का बढ़ता दबाव उनकी दिनचर्या पर असर डालने लगता है. वह उदास और दुखी रहने लगते हैं और फिर धीरे धीरे उनकी यह उदासी उनकी दिनचर्या का एक अहम हिस्सा बन जाता है.

व्यस्त जीवनशैली और काम के चलते उदास होना जाहिर सी बात है. लेकिन हाल ही में आए एक सर्वे से साफ हुआ है कि जो लोग अधिक दुखी और उदास रहते हैं उनमें प्रतिशोध की भावना अधिक पनपती है और यह भावना उनके सेहत पर काफी असर डालती है. यहा नहीं उनकी उदासी और खामोशी कई बड़ी बिमारियों का कारण भी बन सकती है.

रिसर्च में बताया गया है कि अब तक ये माना जाता था कि जो लोग दूसरों को चोट पहुंचाकर और उन्हें दुखी देखकर खुश होते हैं, उनमें प्रतिशोध की भावना उनसे ज्यादा होती है. जबकि ये सरासर गलत है. शोधकर्ताओं का कहना है कि परपीड़न प्रभावी व्यक्तित्व की विशेषता है, जिससे यह जाहिर होता है कि दुखी और उदास लोगों में दूसरों की अपेक्षा प्रतिशोध की भावना ज्यादा होती है.

दुखी और उदास रहने वाला व्यक्ति मानसिक तौर पर बिमार रहने लगता है, उनमें अपभ्रंश जैसी बिमारियो की शिकायत देखने को मिलती है. कई बार वह बिमार न होते हुए भी खुद को बिमार समझ लेते हैं ऐसे में वह तरह तरह की दवाईयां खाना शुरू कर देते हैं, जो कि आगे चलकर उनमें पेट से संबंधित बिमारियों को भी जन्म देते हैं.

उपर्युक्त विवरण को अगर देखा जाएं तो हमारें शरीर में बिमारी के जन्म लेने का सबसे बड़ा कारण हमारी उदासी है. इसलिए जितना हो सके अपने आफिस या किसी भी काम को खुद पर हावी नहीं होने देना चाहिए. खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए और अपना कुछ समय अपने परिवार और दोस्तों के साथ बिताना चाहिए.

 

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]
  • अब एलआईसी की बारी
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। काफी समय से भारतीय जीवन बीमा निगम को बेचने की जो कवायद चल रही थी वो अब अंतिम चरण में आ चुकी है। यह तय हो गया है कि कुल 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। एलआईसी को बेचने के […]
  • भारतीय रेलवे जल्द ही करेगा भर्तियां
    सत्‍यम् लाइव, 7 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। लाेेेकडाउन केे बाद आनलाक की प्र‍क्रिया के तहत सरकार एक एक कर के सरकारी क्षेत्राेे में खाली पदों कों भरने केे लिए, परीक्षाओं का दिशा निर्देश जारी कर रही है। इन्‍ही मेंं से […]