Breaking News
prev next

आरक्षण हटाओ देश बचाओ नारे के बीच, बिहार में चली गोलियां

नई दिल्ली: आरक्षण ‘भारत बंद’ के खिलाफ सवर्णों के एक तबके का आज देशभर में प्रदर्शन जारी है. इसका खासा असर बिहार में देखा जा रहा है. जहां भीड़ ने कई ट्रेनें रोक दी, कई जगहों पर आगजनी की तो वहीं आरा में भीड़ ने कई राउंड गोलियां भी चलाई है. आरा में प्रदर्शनों के हिंसक होने पर प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी है भीड़ की पत्थरबाजी में 6 से 7 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं शहर में दो ग्रुप के बीच झड़पें हुई. इस दौरान गोलियों की आवाज भी सुनी गई. भीड़ ने ट्रेनों की आवाजाही ठप कर दी और ‘आरक्षण हटाओ’ देश बचाओ’ जैसे नारे लगाए.

भीड़ के पथराव में डीएसपी की गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई, कई दुकानों को भी नुकसान पहुंचाया गया है. बंद समर्थकों ने कई जगहों पर सड़क जाम भी किया है.
लखीसराय में भी आरक्षण विरोधी सड़क पर दिख रहे हैं. भीड़ ने एनएच 80 समेत कई सड़कों को पूरी तरह जाम कर दिया. कई दुकानों में तोड़फोड़ की गई. चौराहों पर टायर जलाकर भीड़ ने प्रदर्शन किया. जहानाबाद में प्रदर्शनकारियों ने पटना-गया नेशनल हाइवे को बंद कर दिया. जाम खुलवाने के लिए प्रशासन को कड़ी मशक्कतों का सामना करना पड़ा.

पटना के भी कई क्षेत्रों में मार्ग जाम किया गया. बंद समर्थकों का कहना है कि सभी जातीय समूहों में निर्धन लोग शामिल हैं. ऐसे में आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू किया जाना चाहिए. इस बीच बंद को देखते हुए राजधानी पटना के अधिकांश निजी स्कूलों को बंद रखा गया है वहीं सीतामढ़ी में भी कई जगहों पर सड़कों को अवरुद्ध कर आगजनी की गई है. रुन्नीसैदपुर टोल प्लाजा के पास बंद समर्थक सड़क पर उतरे और सड़क जाम किया.

मुजफ्फरपुर में भी सवर्णों के एक वर्ग के भारत बंद के समर्थन में लोग सड़कों पर उतरे. आरक्षण के विरोध में जमकर नारेबाजी की गई और टायर जलाकर आक्रोश जताया. बंद का असर कैमूर, नालंदा, बेगुसराय, दरभंगा, छपरा और पटना सिटी में भी देखा जा रहा है.गौरतलब है कि अनुसूचित जाति जनजाति (एससी/एसटी) के कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के खिलाफ 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान व्यापक हिंसा और आगजनी हुई थी. हिंसा के दौरान देशभर में कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई थी और कई अन्य जख्मी हो गए थे.

इसी के विरोध और नौकरी/शिक्षा में जाति आधारित आरक्षण के खिलाफ सवर्णों ने आज सोशल मीडिया के जरिए बंद बुलाया है. इस बंद का कोई एक संगठन या नेता अगुवाई नहीं कर रहा है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बंद की घोषणा को देखते हुए सोमवार को सुरक्षा के लिए राज्यों को एडवाइजरी जारी किया था.

 

विज्ञापन

अन्य ख़बरे

  • कलयुगी गंगाजल है सैनेटाइजर
    अपनी संस्‍कृृ‍ति और सभ्‍यता को पहचानने के लिये पहले भगवान और गंगाजल को गंगा मॉ समझना जरूरी है। सत्‍यम् लाइव, 13 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। भारतीय शास्‍त्रों में गंगाजल की महत्‍ता इतनी वयां की गयी है कि मुस्लिम शासक […]
  • किसान ट्रेन से फायदा किसान को होगा?
    सत्‍यम् लाइव, 12 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल दिल्‍ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची है इस रेल का नाम किसान रेल है जिस पर 332 टन फल और सब्जियां लाई गईं। 36 घंटों के लम्‍बे […]
  • कृषक मेघ की रानी दिल्‍ली.. दिनकर जी
    सत्‍यम् लाइव, 11 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। आपदा को अवसर में तब्‍दील कर देने वाले प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी की सरकार और किसानों के बीच एक बार फिर से संघर्ष प्रारम्‍भ हो चुका है। अवसरवादी भारत की सरकारेंं कृषि […]
  • स्‍कूल के नियमों पर जटिल प्रश्‍न
    भययुक्‍त शिक्षक, भयमुक्त समाज नहीं बनाता ”वासुधैव कुटुम्‍बकम्” की भावना समाप्‍त करती आज की शिक्षा व्‍यवस्‍था कलयुगी सैनेटाइजर ने युग के गंगाजल का स्‍थान ले रही है। कारण शिक्षा व्‍यवस्‍था भारतीय संस्‍कार […]
  • स्‍कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान
    सत्‍यम् लाइव, 9 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। यूपी में लॉकडाउन खत्म करने के बाद अनलॉक-4.0 के तहत अब स्कूल-कॉलेज खोलने की तैयारी है। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्र कुछ शर्तों के साथ स्कूल जा सकेंगे। केंद्र […]
  • नेत्रदान पर जागरूक अभियान
    सत्‍यम् लाइव, 8 सितम्‍बर 2020, दिल्‍ली।। उत्तराखंड प्रांत इकाई के संयुक्त तत्वाधान में नेत्र की क्रिया विधि एवं नेत्रदान का महत्व विषय पर एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया।वेबीनार के मुख्य अतिथि सक्षम के […]