Breaking News
prev next

हरि ॐ नमो नारायणाय के सस्वर गायन से गूँजा रामलीला मैदान

ग़ाज़ियाबाद, 30 नवम्बर। विश्व जागृति मिशन द्वारा 30 नवम्बर 2018 को ग़ाज़ियाबाद के श्रीराम लीला ग्राउण्ड में आयोजित विराट भक्ति सत्संग महोत्सव के दूसरे दिवस सांध्यक़ालीन सत्र में मिशन प्रमुख श्रद्धेय श्री सुधांशु जी महाराज ने कहा कि भक्ति के मार्ग से ईश्वर को पाया जा सकता है। गीता में प्रभु श्रीकृष्ण द्वारा दिए गए सन्देश सुनाते हुये उन्होंने कहा कि परमेश्वर को ऐसे व्यक्ति सबसे ज़्यादा प्रिय होते हैं जो अपना कल्याण करते हुये दूसरों के कल्याण में सदा रत रहते हैं। वैचारिक क्रान्ति को बदलाव का बड़ा हथियार बताते हुये उन्होंने गीता को मानवीय विचारों में क्रान्तिकारी परिवर्तन लाने का सशक्त माध्यम बताया। श्री सुधांशु जी महाराज ने दुर्जनता को सज्जनता में बदलने के काम को परमात्मा का कार्य बताया और कहा कि अपना सुधार करते हुये समाज और देश का भला करने वाले सबसे बड़े भक्त होते हैं।
श्री सुधांशु जी महाराज ने ईसवी वर्ष 2019 की दिव्य नवजीवन डायरी और पंचांग का विमोचन किया। उन्होंने इनकी विशेषताएँ भी बतायीं।
श्री राम महेश मिश्र जी सत्संग प्रांगण को संचालित करते हुए
इसके पूर्व आचार्य सुधांशु जी महाराज के सत्संग सभागार में पहुँचने पर मुख्य यजमान वरिष्ठ भाजपा नेता श्री दिनेश गोयल, पूर्व सांसद श्री सुरेन्द्र गोयल, मण्डल प्रधान श्री सुरेन्द्र मोहन शर्मा, संयोजक-समन्वयक श्री मनोज शास्त्री, मेरठ प्रतिनिधि श्रीमती अंजू शास्त्री, श्री शिशुपाल सिंह गंगवार, श्रीमती अनीता गंगवार आदि ने पुष्पगुच्छ भेंट कर सन्तश्री का भावभीना अभिनंदन किया।
मिशन मुख्यालय आनन्दधाम से आए श्री राम महेश मिश्र ने सत्संग प्रांगण में संचालित विभिन्न स्टालों की जानकारी दी और बताया कि मिशन द्वारा दो हज़ार अनाथ (देवदूत) बच्चों को उच्चस्तरीय शिक्षा के साथ एक सौ बटुकों को संस्कृत शिक्षा प्रदान की जा रही है। उन्होंने 15 जनवरी 2019 से मिशन मुख्यालय आनन्दधाम में आरम्भ हो रहे महर्षि वेदव्यास अन्तरराष्ट्रीय उपदेशक महाविद्यालय की भी चर्चा की। श्री मिश्र ने वृद्धजन सेवा, गौसेवा, चिकित्सा सेवा, युगऋषि आयुर्वेद आदि कार्यक्रमों की जानकारी जनसामान्य को दी। उल्लेखनीय है, सत्संग कार्यक्रम का समापन रविवार-02 दिसम्बर की सायंकाल होगा।
अध्यात्मपुरुष श्री सुधांशु जी महाराज ने कहा:-
-भक्ति मार्ग से परमात्मा को प्राप्त करना सम्भव
-निज कल्याण के साथ दूसरों का कल्याण करने वाले प्रभु के सबसे समीप होते हैं
-विराट भक्ति सत्संग महोत्सव का दूसरा दिन

विज्ञापन

कुछ अन्य लोकप्रिय ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


11 − four =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.