Trending News
prev next

अंततः दिल्लीवासियों के सामने दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविन्द केजरीवाल के झूठ का पर्दाफाश- कांग्रेस प्रवक्ता

श्री अरविन्द केजरीवाल का चेहरा बेनकाब – शीला दीक्षित

श्री अरविन्द केजरीवाल झूठ बोलते है – – शीला दीक्षित

नई दिल्ली, 22 फरवरी, 2019 – दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता श्री रमाकांत गोस्वामी, पूर्व मंत्री दिल्ली सरकार एवं श्री जितेन्द्र कुमार कोचर, पूर्व निगम पार्षद ने एक संयुक्त बयान जारी करते हुए कहा कि अंततः दिल्लीवासियों के सामने दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविन्द केजरीवाल के झूठ का पर्दाफाश हो गया। उन्होंने बताया कि दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती शीला दीक्षित ने कल सार्वजनिक तौर पर श्री केजरीवाल के चेहरे को बेनकाब करते हुए बताया है कि श्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली में सीटों के बंटवारे के विषय में उनसे कभी कोई बात नही की। हालांकि मौजूदा मुख्यमंत्री रोज एक ही बात दोहराते रहते है कि भाजपा को हराने के लिए उन्होंने हर संभव प्रयास किया कि कांग्रेस के साथ दिल्ली में गठबंधन हो जाए मगर कोई उनकी बात सुनने या मानने को तैयार नही है। हैरानी की बात है कि जब उन्होंने दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष से ही इस विषय में कोई बात नही की तो फिर वह बार-बार दिल्लीवासियों के समक्ष झूठ बोलते हुए उन्हें भ्रमित करने की कोशिश क्यों कर रहे है।

दोनो प्रवक्ताओं ने कहा कि आम आदमी पार्टी के मुखिया अप्रत्यक्ष रुप से भाजपा की मदद करने के उद्देश्य से लोकसभा चुनाव में अपनी पार्टी की उम्मीदवारी करना चाहते है ताकि भाजपा विरोधी वोट आपस में बंट जाए और भाजपा के प्रत्याशी सफलता प्राप्त करे, चाहे कम मार्जन से। हकीकत यह है कि राष्ट्रीय राजनीतिक पटल पर आम आदमी पार्टी का कोई दखल नही है। लोकसभा के चुनाव राष्ट्रीय राजनीति को केन्द्रीत करते हुए लड़े जाते है। आज दिल्ली में मुख्य रुप से दो ही राष्ट्रीय दल है, कांग्रेस और भाजपा। यकीनन दोनो दलों के बीच सीधा मुकाबला होने की स्थिति में कांग्रेस दिल्ली की सातों लोकसभा सीटें जीतने में सक्षम है।

संयुक्त बयान में कहा गया कि श्री अरविन्द केजरीवाल भी इस हकीकत को पहचानते है और तभी यह बयान भी देते है कि अगर कांग्रेस सातों सीटे जीतने की गांरटी दे सकती हो तो वह सातों लोकसभा सीटों से अपने प्रत्याशी वापस ले लेगी। कांग्रेस की जीत की गारंटी तो आज के दिल्ली के मौजूदा हालात और दिल्लीवासियों का कांग्रेस में सम्पूर्ण विश्वास स्वयं प्रदान करती है। अगर मान भी लिया जाए कि त्रिकोणिय संघर्ष में आम आदमी पार्टी का एक-आध सदस्य जीतकर संसद में पहुच भी जाता है उससे राष्ट्रीय राजनीति पर कोई प्रभाव पड़ने वाला नही है जबकि कांग्रेस द्वारा सातों लोकसभा सीटे जीतने पर केन्द्र की राजनीति का स्वरुप ही बदल सकता है।

श्री रमाकांत गोस्वामी एवं श्री जितेन्द्र कुमार कोचर ने जोर देकर कहा कि श्री अरविन्द केजरीवाल को दिल्लीवासियों की इच्छाओं, आकांक्षाओं, उम्मीदों एवं भावनाओं को समझते हुए एक सकारात्मक राजनीतिक पहल करनी चाहिए और दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों से अपने उम्मीदवारों के नाम वापस लेते हुए भाजपा की हार को सुनिश्चित करना चाहिए।

विज्ञापन

http://www.satyamlive.com/advertise-with-us/

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


16 − 16 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »