Trending News
prev next

बरसाना नन्दगांव होली का प्रोग्राम की रुपरेखा

bardana-lathmar holi-nandgaon-holi-program-outline
Bardana Nandgaon Holi program outline

बरसाना, कन्हैया शर्मा : बरसाना नन्दगांव होली का प्रोग्राम की रुपरेखा तैयार हो गई हैं आप सभी सादर आमंत्रित हैं barsana lathmar holi

14 मार्च– सुबह से ही श्रद्धालुओं का आवागमन बरसाना में शुरु हो जाएगा।
—शाम साढ़े पांच बजे लाडली जी मन्दिर पर लड्डू होली का आयोजन। जिसमें मन्दिर परिसर में बरसाना के गोस्वामीजनों द्वारा समाज गायन व इस दौरान श्रद्धालुओं द्वारा लड्डू लुटाना। यह कार्यक्रम करीब एक घन्टे तक चलता है।
—रात्रि में कस्बे की सभी धर्मशालाओं व गेस्टहाउसो में भजन संध्या व सांस्कृतिक कार्यक्रम।

15 मार्च— सुबह करीब आठ बजे डीजे के साथ श्रद्धालुओं की टोली परिक्रमा लगाने के लिए निकलती है।
—इस दौरान 9 बजे से 12 बजे तक श्रद्धालुओं का हुजूम मन्दिर परिसर में उमड़ता है।
—2 बजे नन्दगांव के हुरियारे प्रियाकुण्ड पहुँचे है। जहाँ भांग ठंडाई लेने के बाद अपनी पगड़ी व ढाल को सही करते है। जिसके बाद नई सीढ़ियों से हुरियारे लाडली जी मन्दिर पहुँचते है।


— इस दौरान मन्दिर परिसर में नन्दगांव व बरसाना के गोस्वामी समाज द्वारा सँयुक्त रुप से समाज गायन होता है।
— समाज गायन के दौरान नन्दगांव वालो पर जमकर रंग व गुलाल बरसता है।
— करीब पांच बजे नन्दगांव के हुरियारे रंगीली गली में उतर आते है। जहाँ बरसाने के हुरियारिनो के साथ हंसी ठिठोली करते हुए उनके साथ नृत्य करते है।


— करीब साढ़े पांच बजे रंगीली गली, रंगीली गली चौक, बाग मुहल्ला तिराहा, सुदामा चौक, फूल गली, कुंज गली, कटारा पार्क, होली टीला, मेन बाजार, भूमिया गली, डॉ सुभाष तौमर तिराहा तक लठामार होली का मंचन होता है। इस दौरान लाखों श्रद्धालु गलियों में खड़े होकर तथा मकानों की छत पर खड़े होकर होली का आनन्द उठाते है।


— लठामार होली सूर्यस्त तक चलती है। जिसके बाद नन्दगांव के हुरियारे पीली कोठी धर्मशाला पर दूध पीते है तो हुरियारिनें लाडली जी मन्दिर दर्शन करने चली जाती है।

ये भी पढ़े : अब परीक्षार्थी घड़ी पहनकर जा सकेंगे केंद्र, सीबीएसई

16 मार्च — को बरसाना के हुरियारे नन्दगांव होली खेलने जाते है।

इस दौरान हुरियारे सबसे पहले यशोदा कुंड पर पहुँचे है। जिसके बाद पीछे के रास्ते से नन्दबाबा मन्दिर जाते है। जहाँ बरसाना नन्दगांव के गोस्वामी समाज द्वारा समाज गायन होता है। इस दौरान बरसाना के हुरियारों पर जमकर रंग व पानी की बौछार होती है। जिसके बाद बरसाना के हुरियारे हंसी ठिठोली करते हुए रंगीली गली से होली चौक पर आ जाते है। जहाँ शाम के करीब साढ़े पांच बजे बरसाना के हुरियारों पर नन्दगांव की हुरियारिनों द्वारा प्रेमपगी लाठियां बरसाई जाती है।


कन्हैया शर्मा
बरसाना

विज्ञापन

http://www.satyamlive.com/advertise-with-us/

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


six − 5 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »