Breaking News
prev next

पीएम ने कहा 2022 तक किसानों की आय दोगुनी

नई दिल्ली: उज्‍ज्‍वला और मुद्रा योजना के लाभार्थियों के बाद आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों से ‘नमो एप’ के जरिए बातचीत की। पीएम मोदी ने कहा कि हमने तय किया है 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ना है। हम इस पर ध्यान दे रहे हैं कि कच्चे माल की लागत कम हो, किसानों को पैदावार का उचित मूल्य मिले औ फसल पैदावार में नुकसान कम हो।

पीएम मोदी ने बताया कि पहले खाद के लिए लंबी-लंबी कतारें हुआ करती थीं, लेकिन अब किसानों को आसानी से खाद मिल रहा है। आज किसानों के लिए 100% नीम कोटिंग वाला यूरिया देश में उपलब्ध है। फसल कटाई के बाद जब किसान का उत्पाद बाजार में पहुंचता है तो उसमें उसे अपनी उपज की सही कीमत मिले, इसके लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म e-NAM शुरू किया गया है, ताकि किसानों को अपनी उपज का पूरा पैसा मिल सके और सबसे बड़ी बात कि अब बिचौलिए किसानों का लाभ नहीं मार पाएंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि आज देश में न सिर्फ अनाज बल्कि फल, सब्जियों और दूध का भी रिकॉर्ड उत्पादन हो रहा है। देश के किसानों को फसलों की उचित कीमत मिले, इसके लिए इस बार के बजट में सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया। सरकार ने तय किया है कि अधिसूचित फसलों के लिए एमएसपी, उनकी लागत का कम से कम डेढ़ गुना घोषित किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि किसानों को फसल में किसी भी तरह का जोखिम न हो, इसके लिए आज फसल बीमा योजना है।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने किसानों की आय को दोगुना करने के संकल्प को 2022 तक पूरा करने के लिए केंद्रीय बजट में खेती को दिए जाने वाले धन को भी दोगुना कर दिया है। कांग्रेस की यूपीए सरकार ने जहां 2009 से 2014 के दौरान मात्र 1 लाख 21 हजार 82 करोड़ रुपये दिए थे, वहीं पीएम मोदी ने 2014-18 के बीच, 2 लाख 11 हजार 694 करोड़ रुपये दे दिए।

पीएम मोदी ने कुछ दिनों पहले ही मुद्रा योजना के लाभार्थियों से भी बातचीत की थी। इस दौरान उन्होंने कहा था कि मुद्रा योजना से संभावनाओं के नये रास्ते खुले हैं और लोगों को नौकरियां भी मिल रही हैं। इससे दलालों पर की सक्रियता भी खत्‍म हो गई है। इससे पहले पीएम मोदी ने देशभर के उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों से बातचीत की थी।

विज्ञापन

कुछ अन्य लोकप्रिय ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


1 × 4 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.